अपना शहर चुनें

States

पेट्रोल- डीजल के मुद्दे पर 3 दिनों तक आंदोलन करेगी झारखंड कांग्रेस, मंत्री बोले- पार्टी अभी जिंदा है

पेट्रोल-डीजल पर आंदोलन की रणनीति बनाने के दौरान दो कांग्रेस नेता आपस में भीड़ गये.
पेट्रोल-डीजल पर आंदोलन की रणनीति बनाने के दौरान दो कांग्रेस नेता आपस में भीड़ गये.

Protest Against Petrol-Diesel Price Hike: पेट्रोल-डीजल के मुद्दे पर झारखंड कांग्रेस 25 फरवरी को हर जिले में प्रेस कांफ्रेंस, 26 फरवरी को मशाल जुलूस और 27 फरवरी को जिला मुख्यालयों पर धरना देगी.

  • Share this:
रांची. पहले किसान आंदोलन (Farmer Agitation) और अब पेट्रोल- डीजल (Petrol - Diesel) के दर में बढ़ोत्तरी के खिलाफ झारखंड कांग्रेस ने आंदोलन की घोषणा की है. कांग्रेस (Jharkhand Congress) ने तीन दिवसीय कार्यक्रम तय किया है. इसके तहत 25 फरवरी को हर जिला में प्रेस कांफ्रेंस, 26 फरवरी को मशाल जुलूस और 27 फरवरी को जिला मुख्यालयों पर कांग्रेस धरना देगी. कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव ने सोमवार को इसकी घोषणा की.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष व वित्त मंत्री रामेश्वर उरांव ने कहा कि पहले केंद्र टैक्स कम करे, फिर राज्य सरकार इस पर विचार करेगी. डीजल का दर बढ़ाकर किसानों की आय दोगुनी नहीं की जा सकती. हम देश के साथ चलने को तैयार हैं.

रामेश्वर उरांव ने सीएम हेमंत सोरेन के बयान का समर्थन करते हुए कहा कि आदिवासी हिन्दू नहीं हैं. हम सरना धर्म को मानने वाले हैं. जनगणना में आदिवासियों के लिए अलग से कॉलम होना चाहिए.



दो दिन पहले हार्वर्ड इंडिया कॉन्फ्रेंस में मुख्यमंत्री हेमंत सोरन ने कहा था कि आदिवासी हिन्दू नहीं हैं. उन्होंने सरना कोड की चर्चा की थी. साथ ही कहा था कि जनगणना में आदिवासियों के लिए अलग से कॉलम होना चाहिए. उनके इस बयान पर सूबे की सियासत गर्म है.
उधर, पेट्रोल-डीजल पर आंदोलन की रणनीति बनाने के दौरान प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश ठाकुर और प्रवक्ता आलोक दुबे आपस में भीड़ गये. रामेश्वर उरांव ने इस पर सफाई देते हुए कहा कि पार्टी जिंदा है ये इसी का सबूत है. घर में ऐसा होता ही रहता है. रामेश्वर उरांव बैठक में पत्रकारों के प्रवेश पर भड़के उठे. उनका कहना था कि पत्रकार बैठक का हिस्सा नहीं थे, इसलिये उन्हें अंदर नहीं आना चाहिये था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज