लाइव टीवी

'अजय कुमार को प्रदेश अध्यक्ष बनाना पार्टी की बड़ी गलती थी'

News18 Jharkhand
Updated: September 19, 2019, 12:54 PM IST
'अजय कुमार को प्रदेश अध्यक्ष बनाना पार्टी की बड़ी गलती थी'
झारखंड कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अजय कुमार ने थामा आप पार्टी का दामन (फाइल फोटो)

प्रदेश प्रवक्ता आलोक दुबे ने कहा कि अजय कुमार अतिमहत्वाकांक्षा के शिकार हो गये. उनको प्रदेश अध्यक्ष बनाना ही पार्टी की बड़ी गलती थी. इसलिए लोकसभा चुनाव में पार्टी को हार झेलनी पड़ी.

  • Share this:
रांची. विधानसभा चुनाव से पहले झारखंड कांग्रेस को बड़ा झटका लगा है. पूर्व प्रदेश अध्यक्ष डॉ. अजय कुमार ने कांग्रेस छोड़कर आम आदमी पार्टी का दामन थाम लिया है. उन्होंने दिल्ली में आप नेता और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया की मौजूदगी में आप पार्टी की सदस्यता ग्रहण की. प्रदेश कांग्रेस में बढ़ती खेमेबाजी से परेशान होकर अजय कुमार ने बीते 9 अगस्त को प्रदेश अध्यक्ष पद से दोबारा इस्तीफा दे दिया. जिसे पार्टी आलाकमान ने मंजूर कर लिया. इससे पहले लोकसभा चुनाव में पार्टी के खराब प्रदर्शन के बाद उन्होंने 24 मई को अपना इस्तीफा सौंपा था, लेकिन तब उनका इस्तीफा मंजूर नहीं हुआ था.

अजय कुमार को अध्यक्ष बनाना बड़ी गलती 

अजय कुमार के आप ज्वाइन करने पर प्रदेश कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष राजेश ठाकुर ने कहा कि अजय कुमार का पार्टी छोड़ना दुखद है. लेकिन उनके जाने से पार्टी पर कोई विशेष प्रभाव नहीं पड़ने वाला है. प्रदेश कांग्रेस और जनता में उनकी वैसी कोई पकड़ नहीं थी. वो जेवीएम से कांग्रेस में आए थे. और पार्टी ने उनपर भरोसा कर प्रदेश अध्यक्ष की बड़ी जिम्मेदारी दी थी. लेकिन वो इस जिम्मेदारी को ठीक से नहीं निभा पाए.

प्रदेश प्रवक्ता आलोक दुबे ने कहा कि अजय कुमार अतिमहत्वाकांक्षा के शिकार हो गये. उनको प्रदेश अध्यक्ष बनाना ही पार्टी की बड़ी गलती थी. इसलिए लोकसभा चुनाव में पार्टी को हार झेलनी पड़ी. आलाकमान ने उनपर जरूरत से ज्यादा भरोसा जताया, पर वो उसपर खरे नहीं उतर पाए.

जेएमएम महासचिव विनोद पांडेय ने कहा कि ये कांग्रेस का अंदरुनी मामला है. लेकिन उनके कांग्रेस छोड़ने पर विधानसभा चुनाव में महागठबंधन बनाने की कवायद को झटका लगा है. अब जेएमएम को इसके लिए आगे आकर पहल करनी होगी.

2014 में थामा था कांग्रेस का दामन

बता दें कि साल 2011 में जेवीएम ज्वाइन करने के बाद अजय कुमार ने जमशेदपुर सीट से लोकसभा उपचुनाव लड़ा था और जीते थे. लेकिन 2014 में वो जेवीएम के टिकट पर जमशेदपुर में लोकसभा चुनाव हार गये. जिसके बाद उन्होंने कांग्रेस का दामन थाम लिया. राहुल गांधी ने उनपर भरोसा जताते हुए उन्हें प्रदेश कांग्रेस का अध्यक्ष बनाया. अजय कुमार इस बार भी जमशेदपुर सीट से लोकसभा चुनाव लड़ना चाहते थे, लेकिन यह सीट जेएमएम के पाले में चली गई. इसलिए वो चुनाव नहीं लड़ पाए.
Loading...

अजय कुमार का करियर अस्थिर रहा है. पहले वो मेडिकल प्रोफेशन में गये, फिर आईपीएस बने. जमशेदपुर एसपी के रूप में उन्होंने काफी नाम कमाया. बाद में आईपीएस की नौकरी छोड़कर टाटा ज्वाइन किया. टाटा को छोड़कर 2011 में जेवीएम से सियासत में कदम रखा.

रिपोर्ट- नवीन कुमार झा

ये भी पढ़ें- झारखंड विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस का 'हाथ' छोड़कर AAP में शामिल हुए अजय कुमार

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 19, 2019, 12:53 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...