झारखंड DGP नीरज सिन्हा का नहीं उतर रहा बुखार, कोरोना संक्रमित पत्नी के साथ अस्पताल में हुए भर्ती

झारखंड डीजीपी नीरज सिन्हा कोरोना संक्रमित हो गये हैं. (फाइल फोटो)

झारखंड डीजीपी नीरज सिन्हा कोरोना संक्रमित हो गये हैं. (फाइल फोटो)

Jharkhand DGP Corona Infected: मेडिका अस्पताल के मुताबिक डीजीपी का बुखार नहीं उतर रहा. और अब लूज मोशन भी शुरू हो गया है. इसलिए उन्होंने अस्पताल में एडमिट होना मुनासिब समझा. फिलहाल डीजीपी पहले से बेहतर महसूस कर रहे हैं.

  • Share this:

रांची. झारखंड के डीजीपी नीरज सिन्हा (Jharkhand DGP Neeraj Sinha) कोरोना संक्रमित हो गये हैं. गत 19 अप्रैल को वो कोरोना पॉजिटिव पाये गये. 7 दिन तक घर में रहने के बाद सोमवार को डीजीपी रांची के मेडिका हॉस्पिटल में एडमिट हो गए हैं. उनके साथ उनकी पत्नी को भी भर्ती कराया गया है. हालांकि अस्पताल प्रबंधन के मुताबिक डीजीपी की तबीयत फिलहाल स्थिर है.



मेडिका अस्पताल के मुताबिक डीजीपी का बुखार नहीं उतर रहा था. और अब लूज मोशन भी शुरू हो गया. इसलिए उन्होंने अस्पताल में एडमिट होना मुनासिब समझा. फिलहाल डीजीपी पहले से बेहतर महसूस कर रहे हैं.



बता दें कि झारखंड पुलिस के डीजीपी, आईजी प्रोविजन प्रभात कुमार सहित लगभग 300 पुलिस पदाधिकारी और जवान कोरोना संक्रमित पाये गये हैं. इतना ही नहीं कई जिलों के पुलिस कप्तान भी कोरोना की चपेट में आ चुके हैं. मसलन, कोडरमा एसपी डॉक्टर एहतेशाम बकारिव, लातेहार एसपी प्रशांत आनंद, रामगढ़ एसपी प्रभात कुमार, ये कोरोना संक्रमित पाये गये हैं. वहीं एक हफ्ते पहले हीसाहिबगंज एसपी अनुरंजन किस्पोट्टा कोरोना से ठीक हुए हैं. संक्रमित पुलिस अधिकारी होम आइसोलेशन में हैं.



झारखंड पुलिस में कोरोना का कोप बढ़ता जा रहा है. तीन दिन पहले जहां 127 पुलिसकर्मी कोरोना वायरस से संक्रमित थे. यह अब बढ़कर लगभग 300 पहुंच गया है. यह संख्या सभी जिलों के संक्रमित पुलिसकर्मियों की है. राजधानी रांची में संक्रमित पुलिसकर्मियों के लिए बने आइसोलेशन सेंटर में फिलहाल 25 पुलिसकर्मी व पदाधिकारी इलाजरत हैं.


कोरोना से ठीक हुए पुलिसकर्मियों की नई पहल



इस बीच कोरोना से ठीक हो रहे पुलिसकर्मियों ने एक नई पहल शुरू की है. रांची ग्रामीण एसपी नौशाद आलम के नेतृत्व में कुटे स्थित विस्थापित भवन में बने आइसोलेशन सेंटर के बाहर ऑक्सीजन के लिए पेड़ लगाने की शुरुआत की गई. कोरोना को मात देकर डिस्चार्ज हुए पांच पुलिसकर्मियों से ऑक्सीजन के लिए एक-एक पेड़ लगवाये गये. साथ ही संकल्प लिया गया कि जीवन में हर जगह जहां मौका मिले, ऑक्सीजन के लिए पेड़ लगाएंगे.


अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज