बिहार के बाद झारखंड में भी स्कूल खोलने की तैयारी, जानें क्या है शिक्षा विभाग का प्रस्ताव

कोरोना संक्रमण के बीच स्कूलों को खोलने पर झारखंड सरकार विचार कर रही है. (फाइल फोटो)
कोरोना संक्रमण के बीच स्कूलों को खोलने पर झारखंड सरकार विचार कर रही है. (फाइल फोटो)

झारखंड सरकार (Jharkhand Government) शुरुआत में 09वीं से लेकर 12वीं तक के बच्चों (Students) को सीमित संख्या में कंसल्टेशन के लिए स्कूल जाने देने पर विचार कर रही है.

  • Share this:
रांची. बिहार के बाद अब झारखंड में भी स्कूल (School) खोलने की तैयारी सरकार की ओर से शुरू हो गई है. प्रारंभ में क्लास 09वीं से लेकर 12वीं तक के बच्चों (Students) को सीमित संख्या में कंसल्टेशन के लिए स्कूल जाने देने पर विचार किया जा रहा है. हालांकि निजी स्कूलों ने कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) आने तक स्कूल नहीं खोलने की अपील की है.

झारखंड में कोरोना संक्रमण के गिरते ग्राफ को देखते हुए राज्य सरकार स्कूलों को खोलने पर विचार कर रही है. शिक्षा विभाग के द्वारा तैयार प्रस्ताव के अनुसार स्कूलों में कोरोना से बचाव के लिए सारे प्रबंध भी किए जाएंगे और बच्चों को गार्जियन की अनुमति पर स्कूल आने की अनुमति दी जायेगी. शिक्षा विभाग के इस प्रस्ताव पर सरकार विचार कर रही है.

शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो ने कहा है कि अन्य राज्यों की गाइडलाइन पर भी सरकार विचार कर रही है. जिसके बाद स्कूल खोलने पर निर्णय लिया जाएगा.



निजी स्कूल और शिक्षक संघ की ये है अपील
हालांकि निजी स्कूल एवं माध्यमिक शिक्षक संघ ने कोरोना वैक्सीन आने तक स्कूल नहीं खोलने का सरकार से आग्रह किया है.

ऑनलाइन पढ़ाई से विभाग संतुष्ट नहीं

बता दें कि कोरोना संक्रमण के कारण राज्य के स्कूलों में पठन-पाठन का काम पूरी तरह से ठप है. विकल्प के तौर पर डिजिटल एजुकेशन दी जा रही है. मगर इम्पेक्टफुल नहीं होने के कारण खुद शिक्षा विभाग इससे संतुष्ट नहीं है. ऐसे में अगले वर्ष मैट्रिक-इंटर की परीक्षा में शामिल होने वाले छात्रों की परेशानी को देखते हुए सरकार कोविड नॉर्म्स का पालन करते हुए स्कूल खोलने पर विचार कर रही है. इस पर जल्द ही निर्णय होने की संभावना है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज