लाइव टीवी

झारखंड सरकार हर साल किसानों को प्रति एकड़ 5 हजार रुपए देगी

News18 Jharkhand
Updated: December 21, 2018, 9:23 PM IST
झारखंड सरकार हर साल किसानों को प्रति एकड़ 5 हजार रुपए देगी
राज्य के किसानों को सौगात देने की घोषणा करते मुख्यमंत्री रघुवर दास.

झारखंड सरकार राज्य के किसानों को राज्य सरकार बड़ी सौगात देगी. राज्य सरकार किसानों को हर वर्ष खरीफ फसल के लिए 5000 रुपए प्रति एकड़ राशि देगी, जिनकी जमीन एक एकड़ से कम है उन्हें भी न्यूनतम 5000 रूपये राशि प्रतिवर्ष दी जाएगी.

  • Share this:
झारखंड सरकार राज्य के किसानों को राज्य सरकार बड़ी सौगात देगी. राज्य सरकार किसानों को हर वर्ष खरीफ फसल के लिए 5000 रुपए प्रति एकड़ राशि देगी, जिनकी जमीन एक एकड़ से कम है उन्हें भी न्यूनतम 5000 रूपये राशि प्रतिवर्ष दी जाएगी. यह राशि उन्हें सीधे चेक के माध्यम से दी जाएगी. इस योजना से राज्य के 22.76 लाख लघु एवं सीमांत किसान लाभांवित होंगे.

मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना के नाम से इसकी शुरुआत की जाएगी. वित्तीय वर्ष 2019-20 के बजट में इस योजना को शामिल किया जा रहा है. इस योजना पर राज्य सरकार लगभग 2250 करोड़ रुपए की राशि खर्च करेगी.

उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा 2022 तक किसानों की आय दोगुनी करने के लक्ष्य को पूरा करने में यह योजना काफी सहायक साबित होगी. किसानों को बीज, खाद व अन्य कृषि निवेश के लिए दूसरों पर या बैंक पर निर्भर नहीं रहना होगा. उन्हें खेती के लिए किसी से कर्ज नहीं लेना पड़ेगा.

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह पूर्णतया कृषक कल्याण की योजना होगी. सीधे किसानों के खाते में राशि जाने से कृषक अपनी मर्जी से फसल के लिए बीज, खाद आदि बाजार से क्रय कर सकेंगे. इससे कृषि उत्पादकता में बढ़ोत्तरी होगी.

योजना के तहत खरीफ के अंतर्गत धान की फसल के लिए 45 लाख एकड़ खेत के बदले कृषकों को लाभ दिया जाएगा. किसानों की खुशहाली के लिए राज्य सरकार लगातार कार्य कर रही है. इसके तहत वर्तमान में राज्य में 14.85 लाख किसानों के फसल बीमा के लिए 66 करोड़ रुपए सालाना प्रीमियम भी राज्य सरकार द्वारा भरा जा रहा है. साथ ही किसानों को शून्य प्रतिशत ब्याज पर लोन भी उपलब्ध कराया जा रहा है.

ये भी पढ़ें - 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 21, 2018, 8:04 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...