लाइव टीवी

चुनाव में करारी हार के बाद झारखंड महागठबंधन में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी

Bhuwan Kishore Jha | News18 Jharkhand
Updated: May 31, 2019, 5:45 PM IST
चुनाव में करारी हार के बाद झारखंड महागठबंधन में आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी
झारखंड महागठबंधन में ऑल इज नॉट वेल !

कांग्रेस, झामुमो, राजद और जेवीएम को अभी से ही नवंबर में झारखंड में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर चिंता सताने लगी है.

  • Share this:
झारखंड में महागठबंधन खतरे में है. लोकसभा चुनाव 2019 में हुई हार के बाद से महागठबंधन के सहयोगी दलों में जारी आरोप प्रत्यारोप तेज होता जा रहा है. कांग्रेस ने आगामी झारखंड विधानसभा चुनाव में गठबंधन के नाम पर टिकट का बारगेनिंग करने वालों को सबक सिखाने का संकेत देकर सहयोगी दलों में खलबली मचा दी है. लोकसभा चुनाव में मोदी मैजिक के आगे धराशायी हो चुका महागठबंधन का भविष्य कैसा होगा, वह अभी से दिखने लगा है. चुनाव में हुई करारी हार का दर्द लिए हर दल के नेता इसका ठीकरा दूसरे पर फोड़ने में लगे हुए हैं. दरअसल इस कलह के पीछे की वजह आगामी नवंबर-दिसंबर में राज्य में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर है.

कांग्रेस, झामुमो, राजद और जेवीएम को अभी से ही नवंबर में झारखंड में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर चिंता सताने लगी है. इन दलों के नेताओं द्वारा चुनाव परिणाम के बाद से जिस तरह के आरोप प्रत्यारोप अपने ही सहयोगी दलों पर लगाए जा रहे हैं, उससे साफ है कि महागठबंधन का अस्तित्व खतरे में है. कांग्रेस नेता शमशेर आलम द्वारा राजद एवं अन्य दलों पर बिहार झारखंड में कांग्रेस को अपमानित करने और आगामी विधानसभा चुनाव में गठबंधन के नाम पर सीटों का बारगेनिंग करने वालों को सबक सिखाने की बात कहे जाने से महागठबंधन के अंदर जारी घमासान और तेज हो गया है.

कांग्रेस के इस बयान के बाद से महागठबंधन के अंदर खलबली मची हुई है. राजद और जेएमएम ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए कहा है कि कांग्रेस को हार का ठीकरा किसी दूसरे दल पर फोड़ने के बजाय उसे खुद के गिरेबान में झांक कर देखना चाहिए.

बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में जेवीएम को छोड़कर जेएमएम और राजद का साथ लेकर लोकसभा चुनाव लड़ने वाली कांग्रेस पार्टी मोदी लहर में धराशायी होते ही तब विधानसभा चुनाव में अलग राह पकड़ ली थी. महागठबंधन के अंदर जारी सिर फुटव्वल से यही लगता है कि महागठबंधन के सहयोगी दलों के बीच ऑल इज वेल नहीं है.

ये भी पढ़ें - झारखंड के तीन बार मुख्यमंत्री रहे अर्जुन मुंडा हैं कैबिनेट में सबसे दमदार आदिवासी चेहरा

ये भी पढ़ें - गांवों में शहर जैसी सुविधा देना हमारी सरकार का लक्ष्य: सीएम

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 31, 2019, 5:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...