लालू प्रसाद से चुपके-चुपके मिले झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता, स्वास्थ्य और सियासत पर हुई चर्चा!

झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री की लालू प्रसाद यादव से की मुलाकात चर्चा में है. (फाइल फोटो)
झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री की लालू प्रसाद यादव से की मुलाकात चर्चा में है. (फाइल फोटो)

झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता (Health Minister Banna Gupta) की राजद प्रमुख लालू प्रसाद (Lalu Prasad Yadav) से मुलाकात को बिहार चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है.

  • Share this:
रांची. चारा घोटाला मामले में सजा काट रहे राजद प्रमुख लालू प्रसाद (Lalu Prasad Yadav) से मुलाकात के लिए बिहार से आये नेताओं का जमावड़ा रिम्स में लगा रहा है, तो वहीं झारखंड के स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता (Health Minister of Jharkhand Banna Gupta) ने भी चुपके-चुपके उनसे मुलाकात की है. बुधवार को झारखंड सरकार के मंत्री रिम्स (Rims) पहुंचे थे, उन डॉक्टरों को सम्मानित करने जो कोरोना संक्रमितों का इलाज करते हुए खुद संक्रमित हुए और फिर प्लाज्मा दान कर कोरोना से पीड़ित मरीज की जान बचाई. ऐसे 10 डॉक्टरों को सम्मानित करने के बाद स्वास्थ्य मंत्री रिम्स के अपने कार्यालय में चले गए और वहां अपने बॉडीगार्ड और कारकेड छोड़ लालू प्रसाद का इलाज कर रहे डॉक्टर उमेश प्रसाद की कार पर एक अन्य डॉक्टर के साथ केली बंगला में दाखिल हुए जहां राजद प्रमुख स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं.

केली बंगला का निरीक्षण करने गया था- बन्ना गुप्ता
लालू प्रसाद का इलाज कर रहे रिम्स के चिकित्सक डॉ. उमेश प्रसाद की गाड़ी से चुपके-चुपके रिम्स निदेशक बंगला (जिसे केली बंगला कहा जाता है) वहां जाने पर स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने सफाई दी है. उन्‍होंने कहा कि निदेशक के बंगले का निरीक्षण और वहां राजद सुप्रीमो को मिल रहे स्वास्थ्य व्यवस्था का जायजा लेने गए थे. इस निरीक्षण के दौरान ही लालू प्रसाद से मुलाकात हुई और उनका आशीर्वाद लिया. उनके तबीयत का हाल जाना. स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि लालू प्रसाद का स्वास्थ्य सामान्य है और ब्लड शुगर थोड़ा ज्यादा है जिसकी वजह से डॉक्टरों की टीम लगातार उनके स्वास्थ्य पर नजर रखी हुई है.

स्वास्थ्य और सियासत पर चर्चा !
स्वास्थ्य मंत्री भले ही यह कह रहे हों कि वह लालू प्रसाद को मिल रही स्वास्थ्य सेवाओं का जायजा लेने पहुंचे थे, लेकिन एक पखवाड़े में दूसरी बार लालू से मुलाकात के मायने समझना मुश्किल नहीं है. उनसे मुलाकात के लिए उनके डॉक्टर और एक अन्य डॉक्टर के साथ केली बंगला जाना यह दर्शाता है कि वह मीडिया और अन्य लोगों की नजर से बच कर लालू प्रसाद से मिलने गए थे. अगर उनको राजद प्रमुख के स्वास्थ्य की जानकारी और केली बंगला का निरीक्षण ही करना था तो उनको किसी तरह की रोक भी नहीं थी.





तीन महीने में 3 बार बन्ना गुप्ता और एक बार मुख्यमंत्री मिल चुके हैं लालू प्रसाद से
कोरोना से बचाने के लिए लालू प्रसाद को जब से निदेशक बंगला में शिफ्ट किया गया है तब से दो बार बन्ना गुप्ता और एक बार सीएम हेमन्त सोरेन ने राजद प्रमुख से मुलाकात कर चुके हैं. जबकि पेईंग वार्ड में भी एक बार स्वास्थ्य मंत्री की लालू प्रसाद से मुलाकात हुई थी. हर बार मुलाकात को लेकर कोई भी कारण बताए जाते रहे हों, लेकिन सच्चाई है कि स्वास्थ्य के साथ साथ राजनीति पर भी चर्चा होती है. जब बिहार में चुनाव होने वाले हैं तो संभव है कि बन्ना गुप्ता, कांग्रेस के आलाकमान का कोई संदेश लेकर लालू प्रसाद के पास गए हों, क्योंकि बिहार विधानसभा चुनाव के लिए अभी सीट बंटवारे का पेंच अभी फंसा हुआ है.

हर दिन बिहार से रिम्स पहुंचते हैं बड़ी संख्या में नेता
बिहार की चुनावी सरगर्मी से रिम्स भी अछूता नहीं है. आज भी बिहार से टिकट कंफर्म कराने की आस में सैकड़ों नेता लालू प्रसाद से मिलने पहुंचे. कुछ नेता लालू प्रसाद की एक झलक देखने के लिए केली बंगला परिसर में झांकते दिखे तो किसी ने मुलाकात के लिए पर्ची अंदर भेजी, लेकिन जब मुलाकात नहीं तो कल फिर मुलाकात की कोशिश करने के भरोसे के साथ होटल लौट गए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज