Home /News /jharkhand /

Dhanbad Judge Death: हाईकोर्ट CBI जांच की प्रगति से खुश नहीं, कहा- पेशेवर तरीके से करें छानबीन

Dhanbad Judge Death: हाईकोर्ट CBI जांच की प्रगति से खुश नहीं, कहा- पेशेवर तरीके से करें छानबीन

खंड पीठ ने कहा कि शीर्ष अदालत ने उच्च न्यायालय को मामले की निगरानी करने की जिम्मेदारी उसे सौंपी है.

खंड पीठ ने कहा कि शीर्ष अदालत ने उच्च न्यायालय को मामले की निगरानी करने की जिम्मेदारी उसे सौंपी है.

Dhanbad Judge Death Case: हाईकोर्ट ने राज्य सरकार को न्यायाधीशों (Judges) की सुरक्षा की समीक्षा कर संवेदनशील मामलों की सुनवाई कर रहे जाजों की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश दिए हैं.

    रांची. झारखंड उच्च न्यायालय (Jharkhand High Court) ने धनबाद के न्यायाधीश उत्तम आनंद की संदिग्ध मौत (Judge Uttam Anand Suspicious Death) मामले में केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) की अब क की जांच पर असंतोष जताया है. हाईकोर्ट ने कहा है कि एजेंसी अपनी जांच ‘पेशेवर’ तरीके से करे, क्योंकि मामला बहुत गंभीर है और सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले की जांच की निगरानी की जिम्मेदारी उसे सौंपी है. झारखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश डॉ. रवि रंजन और न्यायमूर्ति एसएन प्रसाद की खंडपीठ ने धनबाद के अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद की मौत के मामले की बृहस्पतिवार को सुनवाई की. सुनवाई के दौरान पीठ ने सीबीआई (CBI Probe) की अब तक की जांच से असंतुष्टि जताते हुए जांच में तेजी लाने और मामले के सभी पहलुओं पर गौर करने को कहा.

    धनबाद के जिला एवं सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद 28 जुलाई की सुबह रणधीर वर्मा चौक पर एक तरफ चहलकदमी करते हुए जा रहे थे, तभी एक ऑटो रिक्शा उनकी ओर मुड़ा और उन्हें पीछे से टक्कर मार दी. इसके बाद मौके से भाग गया. इस बाबत ऑटो चालक लखन वर्मा एवं उसके सहयोगी राहुल वर्मा को गिरफ्तार किया गया है. खंड पीठ ने कहा कि शीर्ष अदालत ने उच्च न्यायालय को मामले की निगरानी करने की जिम्मेदारी सौंपी है, इसलिए पीठ इस मामले के हर पहलू की जांच कराएगा और उसे भरोसा है कि सीबीआई भी पीठ की अपेक्षा पर खरा उतरेगी.

     उनके आवास पर भी सुरक्षा कड़ी कर दी गई है
    खंडपीठ ने राज्य सरकार को न्यायाधीशों की सुरक्षा की समीक्षा कर संवेदनशील मामलों की सुनवाई कर रहे जजों की सुरक्षा का पुख्ता इंतजाम करने का निर्देश दिया है. न्यायालय ने सुनवाई की अगली तारीख पर सीबीआई को मामले की जांच की प्रगति रिपोर्ट सीलबंद लिफाफे में पेश करने का निर्देश दिया है. साथ ही मामले के अनुसंधान अधिकारी को भी न्यायालय में मौजूद रहने का निर्देश दिया. इस मामले में अगली सुनवाई 20 अगस्त को होगी. इससे पूर्व सुनवाई के दौरान सीबीआई की प्रगति रिपोर्ट देख पीठ ने जांच पदाधिकारी से कई सवाल पूछे जिनका जांच अधिकारी सटीक जवाब नहीं दे सके. खंडपीठ ने महाधिवक्ता से पूछा कि इस घटना के बाद न्यायाधीशों को सुरक्षा दी गई है या नहीं? इस पर महाधिवक्ता राजीव रंजन ने पीठ को बताया कि धनबाद के न्यायाधीशों को सुरक्षा दी गई है. उनके आवास पर भी सुरक्षा कड़ी कर दी गई है.

    Tags: High court, Jharkhand news, Judges, Ranchi news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर