Home /News /jharkhand /

jharkhand high court imposed 50 thousand fine on rims director for non appointment of third and fourth grade jobs jhnj

रिम्स में थर्ड और फोर्थ ग्रेड की नियुक्ति नहीं होने से झारखंड हाईकोर्ट नाराज, निदेशक पर लगाया 50 हजार का जुर्माना

झारखंड हाईकोर्ट ने रिम्स निदेशक को शो कॉज करते हुए पूछा है कि क्यों ना उनके खिलाफ अवमानना का केस चलाया जाए.

झारखंड हाईकोर्ट ने रिम्स निदेशक को शो कॉज करते हुए पूछा है कि क्यों ना उनके खिलाफ अवमानना का केस चलाया जाए.

झारखंड के सबसे बड़े अस्पताल रिम्स में पिछले दो वर्षों में तृतीय और चतुर्थ वर्ग की नियुक्ति नहीं हो पाई है. झारखंड हाईकोर्ट ने इस मामले में ‌‌रिम्स की ओर से दायर रिव्यू पिटिशन को खारिज करते हुए निदेशक पर 50 हजार का जुर्माना लगाया. ‌‌

अधिक पढ़ें ...

रांची. झारखंड हाईकोर्ट में शुक्रवार को रिम्स में नियुक्ति के मामले में सुनवाई हुई. इस मामले में हाईकोर्ट ने नाराजगी जताते हुए रिम्स निदेशक पर 50 हजार का जुर्माना लगाया. दरअसल रिम्स में पिछले 2 वर्षों में तृतीय और चतुर्थ वर्ग में नियुक्ति नहीं हो पाई है. जिसको लेकर झारखंड हाईकोर्ट ने मामले में स्वत संज्ञान लिया है. ‌‌

राज्य सरकार की ओर से अधिवक्ता पीयूष चित्रेश ने जानकारी देते हुए बताया कि सुनवाई के दौरान कोर्ट ने रिम्स की कार्यशैली पर कड़ी नाराजगी जताई. रिम्स की ओर से दायर रिव्यू पिटिशन को कोर्ट ने खारिज कर दिया और रिम्स निदेशक को शो कॉज करते हुए 50 हजार का जुर्माना लगाया. ‌‌

कोर्ट ने मौखिक टिप्पणी करते हुए रिम्स निदेशक से पूछा कि क्यों न आपके खिलाफ अवमानना का केस चलाया जाए. इस मामले में रिम्स निदेशक को जवाब दाखिल करने का निर्देश दिया गया है,

सुनवाई के दौरान कोर्ट ने रिम्स में जिनोम सीक्वेंसिंग मशीन के बारे में जानकारी मांगी. कोर्ट ने पूछा कि रिम्स में अब तक यह मशीन क्यों नहीं लगाई गई. ‌वहीं राज्य सरकार की ओर से कोर्ट को जिनोम सीक्वेंसिंग मशीन के इंस्टॉलेशन की जानकारी दी गई. कोर्ट को बताया गया रिम्स में जिनोम सीक्वेंसिंग मशीन का इंस्टॉलेशन जून के अंत तक कर लिया जाएगा.

आपको बता दें कि रिम्स में तृतीय और चतुर्थ वर्गीय कर्मचारियों की नियुक्ति को लेकर हाईकोर्ट बेहद गंभीर हैं और इस मामले में स्वत: संज्ञान लेते हुए कई बार रिम्स को फटकार भी लगाई गई है. ‌‌

राज्य सरकार की ओर से अधिवक्ता पीयूष चित्रेश ने कोर्ट में अपना पक्ष रखा. वही रिम्स की ओर से अधिवक्ता तारकेश्वर नाथ मिश्र ने पैरवी की.

Tags: Jharkhand High Court, RIMS, RIMS Director

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर