होम /न्यूज /झारखंड /

झारखंड हाईकोर्ट ने SP अमरजीत बलिहार हत्याकांड में फैसला सुरक्षित रखा, दुमका कोर्ट से 2 नक्सलियों को मिली है फांसी की सजा

झारखंड हाईकोर्ट ने SP अमरजीत बलिहार हत्याकांड में फैसला सुरक्षित रखा, दुमका कोर्ट से 2 नक्सलियों को मिली है फांसी की सजा

पाकुड़ के तत्कालीन एसपी अमरजीत बलिहार की 2013 में नक्सली हमले में हत्या कर दी गई थी.

पाकुड़ के तत्कालीन एसपी अमरजीत बलिहार की 2013 में नक्सली हमले में हत्या कर दी गई थी.

SP Amarjeet Balihar Murder: वर्ष 2013 में पाकुड़ के तत्कालीन एसपी अमरजीत बलिहार समेत 6 पुलिसकर्मियों की हत्या नक्सली हमले में कर दी गई थी. इस मामले में दुमका कोर्ट ने दो नक्सलियों को दोषी ठहराया, जबकि 5 को साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया. दुमका कोर्ट ने नक्सली सुखलाल मुर्मू उर्फ प्रवीर और सनातन वास्ती उर्फ ताला को फांसी की सजा मुकरर की है.

अधिक पढ़ें ...

रांची. झारखंड हाईकोर्ट में पाकुड़ के तत्कालीन एसपी अमरजीत बलिहार के हत्यारों की याचिका पर सुनवाई हुई. हाईकोर्ट ने इस मामले में सभी पक्षों को सुनने के बाद अपना फैसला सुरक्षित रख लिया है. अब ये देखने काफी महत्वपूर्ण होगा कि झारखंड हाईकोर्ट क्या फैसला होगा. हाईकोर्ट दोनों दोषियों की सजा बरकरार रखता है या फिर उन्हें राहत मिलती है.

इस मामले की सुनवाई झारखंड हाईकोर्ट के न्यायाधीश जस्टिस रंगोन मुखोपाध्याय और जस्टिस संजय प्रसाद की बेंच में वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये हुई. एसपी अमरजीत बलिहार के हत्यारों ने हाईकोर्ट में याचिका दाखिल कर दुमका कोर्ट के फैसले को चुनौती दी है. याचिका में कहा गया है कि निचली अदालत द्वारा दिया गया फैसला न्यायसंगत नहीं है और बिना पुख्ता सबूतों के आधार पर उन्हें फांसी की सजा दी गई है. दोनों ही दोषियों ने अपनी रिहाई की मांग भी याचिका के माध्यम से की है.

नक्सली हमले में हुई थी एसपी की हत्या
बता दें कि वर्ष 2013 में पाकुड़ के तत्कालीन एसपी अमरजीत बलिहार समेत 6 पुलिसकर्मियों की हत्या नक्सली हमले में हुई थी. इस मामले में दुमका कोर्ट ने दो नक्सलियों को दोषी ठहराया था, जबकि साक्ष्य के अभाव में पांच को बरी कर दिया था. दुमका कोर्ट ने नक्सली सुखलाल मुर्मू उर्फ प्रवीर और सनातन वास्ती उर्फ ताला को दोषी करार दिया था. कोर्ट ने दोनों नक्सलियों को दोषी करार देते हुए फांसी की सजा मुकरर की है.

Tags: Jharkhand High Court, Ranchi news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर