Assembly Banner 2021

झारखंड के 700 से ज्यादा रेजिडेंट डॉक्टर्स कल से जाएंगे हड़ताल पर, स्वास्थ्य सेवाएं होंगी प्रभावित

लेकिन स्वास्थ्य विभाग और रिम्स के अधिकारियों ने चुप्पी साध रखी है.

लेकिन स्वास्थ्य विभाग और रिम्स के अधिकारियों ने चुप्पी साध रखी है.

झारखण्ड रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन (Jharkhand Resident Doctors Association) के संयोजक और रांची आईएमए के संयुक्त सचिव डॉ. अजीत ने बताया कि वर्ष 2016 से 2019 तक के सातवें वेतनमान के आधार पर बकाया वेतन भुगतान की मांग लगातार रेजिडेंट डॉक्टर कर रहे हैं.

  • Share this:
रांची. सातवें वेतनमान (7th Pay Scale) के अनुसार लंबित वेतन भुगतान की मांग को लेकर सोमवार से राज्य के सभी मेडिकल कॉलेज अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर्स कार्य बहिष्कार करेंगे. एमजीएम, जमशेदपुर, पीएमसीएच धनबाद, पलामू, हजारीबाग और दुमका मेडिकल कॉलेज के रेजिडेंट डॉक्टर सोमवार की सुबह से ही हड़ताल पर चले जायेंगे. वहीं, रिम्स के रेजिडेंट डॉक्टर्स निदेशक और स्वास्थ्य सचिव के साथ वार्ता के बाद मांगें नहीं मानी जाने पर कार्यबहिष्कार पर चले जायेंगे.

झारखण्ड रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन के संयोजक और रांची आई एमए के संयुक्त सचिव डॉ. अजीत ने बताया कि वर्ष 2016 से 2019 तक के सातवें वेतनमान के आधार पर बकाया वेतन भुगतान की मांग लगातार रेजिडेंट डॉक्टर कर रहे हैं. लेकिन स्वास्थ्य विभाग और रिम्स के अधिकारियों ने चुप्पी साध रखी है.

1 मार्च से कर रहे थे विरोध
राज्यभर के सरकारी अस्पतालों के रेजिडेंट डॉक्टर काला बिल्ला लगाकर बीते 1 मार्च से विरोध जता रहे थे. और अपनी मांगों की ओर सरकार का ध्यान दिलाने की कोशिश कर रहे थे.  डॉक्टरों का आरोप है कि सरकार उनके बकाया भुगतान को लेकर ढुलमूल की नीति पर चल रही है और उनकी मांगों को नजरअंदाज कर रही है. अब 8 मार्च से अगर कार्यबहिष्कार से मरीजों को परेशानी हुई तो सारी जवाबदेही सरकार की होगी. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की झारखंड इकाई भी रेजिडेंट डॉक्टरों के प्रोटेस्ट के साथ है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज