कब्रिस्तान पहुंचते ही 'महिला' में बदल गया पुरुष का शव, मची खलबली
Ranchi News in Hindi

कब्रिस्तान पहुंचते ही 'महिला' में बदल गया पुरुष का शव, मची खलबली
कब्रिस्तान में पुरुष की जगह महिला का शव देखकर खलबली मच गई. प्रतीकात्मक फोटो

फर्ज कीजिए कि क्या होगा जब आप अपने साथियों के साथ एक पुरुष का शव लेकर कब्रिस्तान गए हैं और अचानक वहां पहुंचने के बाद जब शव पर नजर पड़े तो वो महिला की लाश में बदल गया हो.

  • Share this:
रांची. फर्ज कीजिए कि क्या होगा जब आप अपने साथियों के साथ एक पुरुष का शव लेकर कब्रिस्तान गए हैं और अचानक वहां पहुंचने के बाद जब शव पर नजर पड़े तो वो महिला की लाश में बदल गया हो. ऐसा ही एक माजरा झारखंड (Jharkhand) के जमशेदपुर (Jamshedpur) में में सामने आया है. राजधानी रांची (Ranchi) में कोरोना बीमारी के इलाज के दौरान जमेशदपुर निवासी एक व्यक्ति की मौत (Death) हो गई. मौत के बाद परिजन उस शख्स का शव लेकर जमशेदपुर पहुंचे और अंतिम संस्कार के लिए कब्रिस्तान ले जाया गया, लेकिन वहां शव पर नजर पड़ते ही खलबली मच गई.

दरअसल पूरे मामले में रांची के ओरमांझी के एस्क्लेपियस अस्पताल की भारी चूक सामने आई है. अस्पताल में दो कोरोना पॉजिटिव की मौत इलाज के दौरान मौत के बाद अस्पताल की लापरवाही से कोकर की एक महिला का शव जमशेदपुर पहुंच गया वहीं जिस व्यक्ति के शव को जमशेदपुर जाना था वह अस्पताल में ही रह गया. अब मिल्यानी मिंज नाम की मृतक महिला के परिजन घंटों शव वापसी का इंतजार करते रहे. वहीं अस्पताल प्रबंधन जमशेदपुर के मृतक कोरोना पॉजिटिव मरीज के परिजन पर ही जबरदस्ती और तोड़फोड़ कर गलत शव को अपने साथ ले जाने का आरोप लगाते रहे, पर अस्पताल प्रबंधन के इस दलील को ओरमांझी थाना ने गलत करार दिया वहीं अंचलाधिकारी ने बीच का रास्ता निकाला है.

शव को वापस लाया
जमशेदपुर से शव को वापस लाया जा रहा है और इधर रांची से शव को जमशेदपुर भेजा जा रहा है, जहां दोनों मिलेंगे. वहीं अपने अपने परिजन का शव को रिसीव कर लेंगे. रांची के ओरमांझी के सीओ शिव शंकर पांडेय ने कहा कि रांची एसडीओ ने इस तरह की घोर लापरवाही के लिए अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ कठोर कार्रवाई के निर्देश दिए हैं, पर अभी उनकी प्राथमिकता दोनों शव को उनके परिजनों को सौप अंतिम संस्कार कराने की है.
अस्पताल ने दी ये दलील


अस्पताल प्रबंधन की ओर से न्यूज 18 से बातचीत में कहा गया कि जो लोग शव को जमशेदपुर ले गए हैं, उन्होंने जबदस्ती और मारपीट कर गलत शव लेते चले गए हैं. इसमें असपताल की कोई चूक नहीं है. अस्पताल में लोगों के आक्रोश को शांत कराने पहुची ओरमांझी पुलिस के दारोगा जमादार मुंडा ने कहा कि मारपीट कर जबरदस्ती शव ले जाने की बात सही नहीं है. क्योंकि इसकी कोई जानकारी उन्हें या थाने को नहीं दी गयी थी. अस्पताल ने सिर्फ दो कोरोना पॉजिटिव की मौत की सूचना दी थी, अगर मारपीट या हंगामा होता तो उसकी भी जानकारी अस्पताल देता.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading