झारखंड सरकार की योजना से बेटियों को मिल रही उड़ान, पढ़ें रांची की अंजलि की कहानी

रांची की अंजलि आज अपने पैरों पर खड़ी होकर परिवार का भी बड़ा सहारा बनी हुई है.

रांची की अंजलि आज अपने पैरों पर खड़ी होकर परिवार का भी बड़ा सहारा बनी हुई है.

मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन (Hemant Soren) महिला सशक्तिकरण पर विशेष ध्यान दे रहे हैं. सरकार की कोशिश है कि कमजोर वर्ग की बेटियों को हर संभव मदद देकर उसे आत्मनिर्भर बनाया जाए.

  • Share this:
रांची. राजधानी रांची के चान्हो प्रखंड के सिलगेन गांव की रहने वाली अंजलि कुमारी भी उन 111 नर्स में एक हैं, जिन्हें मुख्यमंत्री (CM Hemant Soren) के हाथों नियुक्ति पत्र मिली. अंजली कहती हैं कि मुख्यमंत्री ने हौंसला अफजाई कर मेरे अन्दर काम करने के भाव को दोगुना कर दिया. कुछ ऐसे ही भावों से प्रेरित होकर अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अल्पसंख्यक, पिछड़ा वर्ग और आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग की बेटियां सफलता और स्वावलंबन के सपने गढ़ अपने जीवन में सुखद बदलाव ला रहीं है. इस बदलाव में मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन द्वारा शुरू की गई प्रेझा फाउंडेशन महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है. आज अंजली नर्स के रूप में अपोलो होम केयर अस्पताल में काम कर अपने परिवार का ख्याल रख रही है. इससे पहले चार सदस्यों वाला उसका परिवार अपने गांव में एक कमरे के घर में रहता था. जहां उसके पिता एक स्ट्रीट फूड के स्टॉल में काम कर मुश्किल से 60 रुपये प्रति दिन कमा पाते थे.

ऐसे आया अंजली के जीवन में बदलाव

अंजली और उसका परिवार अभावों में जीवन गुजार रहा था. अपने स्नातक के दौरान उसे चान्हो के नर्सिंग कॉलेज के बारे में पता चला. वह संबंधित प्रवेश परीक्षा में शामिल हुई और नर्सिंग पाठ्यक्रम में दाखिला लिया. प्रेझा फाउंडेशन की मदद से उसे कोर्स की फीस चुकाने के लिए झारखंड राज्य सहकारी बैंक से ऋण मिला. आज वह अपने लोन की ईएमआई चुकाने के साथ-साथ अपने परिवार की मदद भी कर रही है.

बेटियां को आत्मनिर्भर बनाने की हो रही पहल
मुख्यमंत्री के लिए महिला सशक्तिकरण एक प्राथमिकता वाला क्षेत्र है. इस क्षेत्र में प्रगति करने के लिए सरकार समाज के हाशिए पर स्थित कमजोर वर्गों की महिलाओं के लिए विशेष ध्यान देने के साथ राज्य भर में कौशल प्रशिक्षण बुनियादी ढांचे की स्थापना कर रही है. इस विजन के साथ पैन आईआईटी और झारखंड सरकार के कल्याण विभाग संयुक्त रूप से कार्य कर रहा है. प्रेझा राज्य के विभिन्न जिलों में कौशल कॉलेजों की स्थापना कर रहा है. वर्तमान में राज्य भर में छह एएनएम नर्सिंग कॉलेज और एक मैन्युफ़ैक्चरिंग- कुलिनरी आईटीआई कॉलेज का संचालन किया जा रहा है. साथ ही लातेहार और जामताड़ा में 2020-21 के दौरान दो और एएनएम नर्सिंग कॉलेजों का उद्घाटन किया जाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज