झारखंड: दिन भर उमस के बाद भीगी राजधानी, जानिए किन जिलों में कितनी हुई बारिश

रांची में बुधवार शाम बारिश हुई.

रांची में बुधवार शाम बारिश हुई.

Jharkhand Weather : मौसम की करवट के बारे में मौसम विभाग की मानें तो झारखंड में मानसून 13 जून तक दस्तक दे सकता है. इससे पहले, कुछ इलाकों में प्री मानसून कमज़ोर है तो कहीं मानसून की आहट सुनाई दे रही है.

  • Share this:

रांची. झारखंड में 13 जून से मानसून की आमद से चार दिन पहले ही राजधानी में मौसम बदलने की आहट सुनाई दी. सारा दिन उमस और गर्मी के बाद बुधवार की शाम अचानक मौसम सुहाना हो गया और कई हिस्से भीग गए. हालांकि राज्य के बाकी इलाकों में मानसून से पहले की बारिश के आंकड़े खास नहीं रहे. बताया गया है कि दक्षिण पूर्वी मानसून की अच्छी प्रगति की वजह से 11 जून के बाद एक बार फिर मौसम करवट लेगा और राज्य भर में बादल गरजने के साथ ही मध्यम दर्जे की बारिश होगी. बंगाल की खाड़ी के उत्तरी भाग में निम्न दबाव का क्षेत्र बनने की वजह से झारखंड समेत आसपास के अन्य राज्यों ओडिशा, पश्चिम बंगाल और बिहार में भी इसका असर दिखेगा.

रांची में बुधवार शाम होते ही राजधानी के कई इलाकों में बूंदाबांदी तो कुछ जगह हल्की बारिश दर्ज की गई. इसके चलते मौसम सुहावना हो गया. मौसम पुर्वानुमान में बताया गया है कि अगले दो दिन भी राजधानी में हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश हो सकती है. वहीं, पिछले 24 घंटों के दौरान राज्य में प्री मानसून की स्थिति कमजोर रही.

ये भी पढ़ें : रांची में लापता नौजवान का शव खाली कमरे में मिला, दो दिन पुरानी निकली लाश

jharkhand news, jharkhand weather news, jharkhand monsoon, weather forecast, झारखंड न्यूज़, झारखंड मौसम समाचार, झारखंड मौसम भविष्यवाणी, मौसम भविष्यवाणी
बंगाल की खाड़ी में निम्न दबाव का क्षेत्र बनने से मानसून वीकेंड तक झारखंड पहुंच सकता है.

किन ज़िलों में कैसी हुई बारिश?

झारखंड में जून के पहले सप्ताह में सामान्य से कम बारिश हुई थी. एक से सात जून के बीच राज्य में 14.6 मिमी बारिश हुई. मौसम केंद्र के मुताबिक इस दौरान सामान्य बारिश 22.8 मिमी थी. सप्ताहांत राज्य में सामान्य से 36 प्रतिशत कम बारिश हुई. तीन ज़िलों लातेहार, गुमला, सरायकेला-खरसावां और पश्चिमी सिंहभूम में बारिश नहीं हुई. चतरा, खूंटी, बोकारो, देवघर, गोड्डा में सामान्य से 60 प्रतिशत से कम बारिश हुई. राजधानी रांची और गढ़वा में सामान्य से 60 प्रतिशत अधिक बारिश हुई.

गौरतलब है कि राज्य में चक्रवाती तूफान यास के कायम रहने और इसके गुज़रने के बाद राज्य के कई इलाकों में कहीं-कहीं हल्की तो कहीं भारी बारिश हुई थी. अभी पड़ोसी राज्य में कायम साइक्लोनिक सरकुलेशन और लोकल सिस्टम के प्रभावी होने की वजह से कहीं-कहीं बादल गरजने और बिजली गिरने के साथ हल्के से मध्यम दर्जे की बारिश हो रही है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज