होम /न्यूज /झारखंड /राहत की खबर: मलेशिया में फंसे झारखंड के मजदूर आज रात होंगे रवाना, 28 अप्रैल को पहुंचेगे रांची

राहत की खबर: मलेशिया में फंसे झारखंड के मजदूर आज रात होंगे रवाना, 28 अप्रैल को पहुंचेगे रांची

Jharkhand News: झारखंड के 30 मजदूरों में 10 मजदूर आज रात भारतीय समयानुसार 8:30 बजे अपनी फ्लाइट पकड़ेंगे. ‌

Jharkhand News: झारखंड के 30 मजदूरों में 10 मजदूर आज रात भारतीय समयानुसार 8:30 बजे अपनी फ्लाइट पकड़ेंगे. ‌

Jharkhand News: मलेशिया में जिस पावर प्रोजेक्ट में झारखंड के मजदूर काम कर रहे थे. वहां उन्हें वेतन का भुगतान रोक दिया ग ...अधिक पढ़ें

रांची. मलेशिया में फंसे झारखंड के 30 मजदूरों में 10 मजदूर आज रात भारतीय समयानुसार 8:30 बजे अपनी फ्लाइट पकड़ेंगे. ‌फिलहाल मलेशिया के जिस गुरुद्वारे में मजदूर ठहरे हैं, वहां से वह क्वालालांपुर एयरपोर्ट के लिए रवाना हो चुके हैं. मजदूरों ने रवाना होने से पहले न्यूज़ 18 को अपनी कुछ तस्वीरें भी भेजी है. यह मजदूरों के गुरुद्वारा से रवाना होने की तस्वीर है.

बता दें, मलेशिया में जिस पावर प्रोजेक्ट में झारखंड के मजदूर काम कर रहे थे. वहां उन्हें वेतन का भुगतान रोक दिया गया था, जिसके बाद मजदूरों ने गुरुद्वारे में शरण ली थी और भारतीय दूतावास को इसकी जानकारी दी थी. भारतीय एंबेसी के दबाव के कारण कंपनी ने फिलहाल 10 लोगों को भारत लौटने का टिकट दिया है. जल्द ही बचे 20 लोग भी अपने घर लौटेंगे. आज 10 मजदूर मलेशियन समय के अनुसार करीब शाम 6 बजे फ्लाइट पकड़कर श्रीलंका होते हुए चेन्नई पहुंचेंगे और 28 अप्रैल की सुबह ट्रेन से रांची पहुंचेंगे.

मजदूरों के साथ हो रहा था गलत व्यवहार 

मलेशिया में फंसे लोगों में गिरिडीह बोकारो धनबाद और हजारीबाग के मधुर शामिल है. मलेशिया में फंसे गिरिडीह के फंसे विनोद कुमार ने न्यूज 18 को बताया था कि जिस पावर प्रोजेक्ट कंपनी में वह सभी काम कर रहे हैं. उनका रवैया मजदूरों को लेकर अच्छा नहीं था, जितने वेतन भुगतान की बात कह कर उन्हें बुलाया गया था. उससे काफी कम पैसे उन्हें दिए जा रहे थे, जिसको लेकर मजदूरों ने विरोध भी किया था।

गुरुद्वारे में ली शरण शरण 

आखिरकार बाद में मजदूरों का वेतन भुगतान से बंद कर दिया गया. इसकी शिकायत मजदूरों ने भारतीय दूतावास में की. वेतन भुगतान बंद होने के बाद मजदूरों को एक गुरुद्वारे में शरण लेना पड़ा, जहां वे पिछले कुछ महीने से रुके हुए हैं. आखिरकार भारतीय दूतावास के दबाव के बाद कंपनी की ओर से मजदूरों को कुछ भुगतान किया गया और 30 मजदूरों में 10 मजदूरों को घर लौटने का टिकट दिया गया. यह सभी मजदूर 25 अप्रैल की शाम क्वालालांपुर एयरपोर्ट से रवाना होंगे और श्रीलंका होते हुए चेन्नई पहुंचेंगे. इसके बाद चेन्नई से ट्रेन पकड़कर 28 अप्रैल की सुबह रांची रेलवे स्टेशन पहुंचेंगे. ‌ ‌

Tags: Jharkhand News Live Today, Malaysia, Ministry of Labour and Employment

टॉप स्टोरीज
अधिक पढ़ें