होम /न्यूज /झारखंड /नई विधानसभा को लेकर सियासत गर्म, उद्घाटन समारोह से अलग रहने वाले JMM ने विशेष सत्र से भी बनाई दूरी

नई विधानसभा को लेकर सियासत गर्म, उद्घाटन समारोह से अलग रहने वाले JMM ने विशेष सत्र से भी बनाई दूरी

झारखंड की नई विधानसभा का आज विशेष सत्र

झारखंड की नई विधानसभा का आज विशेष सत्र

मंत्री सीपी सिंह ने कहा कि विशेष सत्र को लेकर सरकार का कोई एजेंडा नहीं है. सरकार ने जनता से वादा किया था कि विधानसभा के ...अधिक पढ़ें

    रांची. झारखंड की नई विधानसभा ( Jharkhand Assembly) में आज विशेष सत्र बुलाया गया है. सत्र की शुरुआत राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू के संबोधन से होगी. जिसके बाद स्पीकर दिनेश उरांव समेत पार्टियों के विधायक दल के नेता अपनी बात रखेंगे. हालांकि इसमें मुख्य विपक्षी पार्टी जेएमएम (JMM) शामिल नहीं होगी. गुरुवार को नई विधानसभा के उद्घाटन समारोह से भी नेता प्रतिपक्ष ने दूरी बना ली थी. निमंत्रण के बावजूद हेमंत सोरेन ( Hemant Soren) इसमें शामिल नहीं हुए.

    नगर विकास मंत्री सीपी सिंह ( CP Singh) ने कहा कि विशेष सत्र को लेकर सरकार का कोई एजेंडा नहीं है. सरकार ने जनता से वादा किया था कि नई विधानसभा में सत्र आहूत किया जाएगा, इसलिए विशेष सत्र बुलाया गया है. जेएमएम के बहिष्कार पर उन्होंने कहा कि जेएमएम की पुरानी आदत है कि वह सकारात्मक कामों में साथ नहीं देता. आमंत्रण पत्र पर नेता प्रतिपक्ष का नाम नहीं होने को लेकर कहा कि हेमंत सोरेन का काम इस लायक नहीं है.

    नौजवान संघर्ष मोर्चा के विधायक भानु प्रताप शाही और बसपा विधायक शिवपूजन मेहता ने कहा कि वे भी विपक्ष के सदस्य हैं, लेकिन आमंत्रित किया गया, तो वे कार्यक्रम में शामिल हुए. हेमंत सोरेन और जेएमएम विधायकों को भी शामिल होना चाहिए था.

    बीजेपी विधायक निर्भय शाहाबादी ने हेमंत सोरेन और जेएमएम विधायकों को संस्कार में बदलाव लाने की नसीहत दी. उन्होंने कहा कि नेता प्रतिपक्ष ने ठीक से विधानसभा नहीं चलने दिया. किसी कार्यक्रम में शामिल नहीं होते हैं. वे किस बात का बदलाव चाहते हैं. उन्हें अपनी संस्कृति,संस्कार और दिमाग में बदलाव लाना चाहिए.

    सांसद संजय सेठ ने कहा कि जेएमएम में बरतन खड़क रहे हैं. हेमंत पहले अपना घर संभाले. 2019 में जनता पूरी तरीके से रिजेक्ट करने जा रही है. विपक्ष की बोहनी नहीं होगी. सांसद जयंत सिन्हा ने कहा कि हमारे सामने विपक्ष की चुनौती नहीं है. हमारी चुनौती मिशन 65 प्लस टारगेट को लेकर है.

    उद्घाटन समारोह से दूरी बनाने के सवाल पर जेएमएम महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्या ने कहा कि नेता प्रतिपक्ष को निमंत्रण देने में सामान्य शिष्टाचार का भी पालन नहीं किया गया. लोकतंत्र में विपक्ष की भूमिका अहम होती है, पर निमंत्रण पत्र में नेता प्रतिपक्ष का नाम तक नहीं था.

    इनपुट- दिवाकर, उपेन्द्र व मनोज 

    ये भी पढ़ें- झारखंड: 19 साल बाद किराये की विधानसभा से मिली छुट्टी, PM मोदी ने नई विधानसभा का किया उद्घाटन

    Tags: CM Raghubar Das, Hemant soren, Jharkhand news, Ranchi news

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें