जेएमएम-कांग्रेस के ये विधायक बीजेपी के संपर्क में, हो सकते हैं शामिल

बीजेपी की नजर जेएमएम के चार विधायक कुणाल षाडंगी, दशरथ गगराई, दीपक बिरुआ और चमरा लिंडा पर है. हर हाल में पार्टी इन्हें अपने पाले में करना चाहती है.

Diwakar Tiwari | News18 Jharkhand
Updated: August 30, 2019, 1:55 PM IST
जेएमएम-कांग्रेस के ये विधायक बीजेपी के संपर्क में, हो सकते हैं शामिल
जेएमएम और कांग्रेस के 6 विधायक बीजेपी में शामिल हो सकते हैं
Diwakar Tiwari | News18 Jharkhand
Updated: August 30, 2019, 1:55 PM IST
झारखंड में जेएमएम और कांग्रेस समेत विपक्ष के करीब एक दर्जन विधायक बीजेपी में शामिल होने की कतार में हैं. इन विधायकों को बीजेपी की हरी झंडी का इंतजार है. सूत्रों की माने तो बीजेपी ने कोल्हान की चार सीट, बहरागोड़ा, खरसावां, चाईबासा और विशुनपुर पर सर्वे कराया है. जिसके बादपार्टी की नजर जेएमएम के चार विधायक कुणाल षाडंगी, दशरथ गगराई, दीपक बिरुआ और चमरा लिंडा पर टिक गई है. हर हाल में पार्टी इन्हें अपने पाले में करने में जुटी है. सूत्रों के मुताबिक जेएमएम के ये विधायक बीजेपी के संपर्क में हैं.  इन विधायकों की पिछले दिनों की सियासी हरकतें भी इस ओर इशारा कर रहे हैं. उधर, जेएमएम से निलंबित विधायक जेपी पटेल पहले से ही बीजेपी के गुणगान में लगे हुए हैं. लोकसभा चुनाव के दौरान इन्होंने एनडीए उम्मीदवारों के पक्ष में खुलकर प्रचार भी किया था.

कांग्रेस के ये विधायक बीजेपी के संपर्क में

बात कांग्रेस की करें, तो पूर्व प्रदेश अध्यक्ष व लोहरदगा विधायक सुखदेव भगत और पांकी विधायक देवेंद्र कुमार सिंह उर्फ बिट्टू के बीजेपी में शामिल होने की चर्चा जोरों पर है. दरअलस रामेश्वर उरांव के प्रदेश अध्यक्ष बनने के बाद पार्टी में अलग-थलग पड़ चुके सुखदेव भगत नये आशियाने की तलाश में हैं. ऐसे में वे बीजेपी का रूख कर सकते हैं. हाल में आयोजित न्यूज- 18 के कार्यक्रम 'राइजिंग झारखंड' में सुखदेव भगत ने सवाल पूछने से पहले रघुवर सरकार की खूब तारीफ की थी.

बीजेपी के हो सकते हैं विकास मुंडा 

बीजेपी में आने की कतार में विपक्ष के अलावा सहयोगी आजसू से निलंबित तमाड़ विधायक विकास मुंडा भी हैं. लोकसभा चुनाव के दौरान उनके जेएमएम में जाने की चर्चा थी, लेकिन वह शामिल नहीं हुए. अब बीजेपी में आने की अटकलें तेज हैं.

संथाल- कोल्हान के लिए खास रणनीति

दरअसल बीजेपी की ये सारी कवायद विधानसभा चुनाव में 65 प्लस के टारगेट को पाने के मद्देनजर है. पार्टी चुनावी मैदान में उतरने से पहले ही विरोधियों पर मनोवैज्ञानिक जीत हासिल कर लेना चाहती है. इस प्रयास में पार्टी की पहली रणनीति जेएमएम की कमर तोड़ने की है. बीजेपी की नजर जेएमएम के अभेद किले संथाल और कोल्हान में सेंधमारी पर है. पार्टी हर हाल में यहां की 32 सीटों में से ज्यादा से ज्यादा पर अपनी जीत सुनिश्चित कराना चाहती है.
Loading...

पिछले विधानसभा चुनाव में संथाल में बीजेपी ने जेएमएम को कड़ी टक्कर दी थी, लेकिन कोल्हान में मात खा गई थी. लेकिन इस बार पार्टी कोल्हान को लेकर पहले से ही सतर्क है. पार्टी ने चुनाव से पहले यहां की सीटों पर सर्वे कराने को तवज्जो दिया. अब इन सीटों के लिए उसे मजबूत चेहरों की तलाश है.

ये भी पढ़ें- 'उधर गांधी परिवार तो इधर सोरेन परिवार को संथाल की जनता ने बाहर का रास्ता दिखाया'

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2019, 1:55 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...