महंगी बिजली के विरोध में कैंडल लाइट प्रेसवार्ता, जेएमएम महासचिव बोले- सरकार के चलते डेढ़ लाख लोग हुए बेरोजगार

सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि राजधानी में बिजली की ऐसी स्थिति है कि बीते सोमवार से ही जेएमएम कार्यलय में बिजली गुल है. जबकि कॉमर्शियल बिजली की दरों में बढ़ोतरी से प्रदेश में करीब डेढ़ लाख लोग बेरोजगार हो गए हैं.

News18 Jharkhand
Updated: August 13, 2019, 10:49 PM IST
महंगी बिजली के विरोध में कैंडल लाइट प्रेसवार्ता, जेएमएम महासचिव बोले- सरकार के चलते डेढ़ लाख लोग हुए बेरोजगार
महंगी बिजली के विरोध में जेएमएम महासचिव ने कैंडल की रोशनी में की प्रेसवार्ता
News18 Jharkhand
Updated: August 13, 2019, 10:49 PM IST
जेएमएम (JMM) का दावा है कि बिजली की दरों में बढ़ोतरी (Increase in electricity rates) से प्रदेश में डेढ़ लाख लोग बेरोजगार हुए हैं. पार्टी महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने जीरो पावर कट को लेकर भी राज्य सरकार (Jharkhand Govt) को घेरा. साथ ही विरोध में कैंडल की रोशनी में प्रेसवार्ता की.

बिजली को लेकर जेएमएम का हमला

सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि राजधानी में बिजली की ऐसी स्थिति है कि बीते सोमवार से ही जेएमएम कार्यलय में बिजली गुल है. जबकि कॉमर्शियल बिजली की दरों में बढ़ोतरी से प्रदेश में करीब डेढ़ लाख लोग बेरोजगार हो गए हैं. यह सरकार की जनविरोधी नीतियों की मेहरबानी है. उन्होंने बिजली दरों में कटौती के साथ- साथ बेरोजगार हुए सभी लोगों को नौकरी पर रखने की सरकार से मांग की.

रांची में जीरो पावर कट अभी संभव नहीं 

इधर, रांचीवासियों के लिए जीरो पावर कट का सपना अभी दूर की कौड़ी मालूम पड़ रही है. जबकि यह उम्मीद की जा रही थी कि राजधानी में जुलाई के बाद निर्बाध बिजली आपूर्ति होने लगेगी. इसके लिए पिछले दिनों मुख्यमंत्री रघुवर दास ने झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड (जेबीवीएनएल) के अधिकारियों को मोहलत दी थी. लेकिन तय समय पर काम पूरा नहीं हो पाया है.

जेबीवीएनएल का कहना है कि बिजली के शट डाउन के कई कारण हैं. राजधानी में अंडरग्राउंड केबलिंग का काम चल रहा है. खराब मौसम के कारण भी बिजली की आपूर्ति बंद करनी पड़ती है. हालांकि निगम का ये भी दावा है कि लोकल फाल्ट के तहत फ्यूज उड़ना और जंफर टूटना, जैसी घटनाएं अब कम हुई हैं. आगे इसमें और सुधार आएगा. बिजली वितरण निगम की ओर से जरुरत से अधिक क्षमता वाले ट्रांसफार्मर लगाए गये हैं.

25 कंपनी में लगे ताले
Loading...

उधर, सरायकेला के आदित्यपुर में बिजली की बढ़ी कीमतों के चलते 25 कंपनियों में एक अगस्त से ताले लग गये. इससे करीब 30 हजार मजदूरों की रोजी-रोटी छिन गई है.

इनपुट- ओमप्रकाश

ये भी पढ़ें- मिशन 65 के लिए रणनीति, सीएम समेत प्रदेश के तमाम बड़े नेता प्रमंडलों में करेंगे प्रवास

सौर ऊर्जा से संचालित ये है ईस्टर्न जोन की पहली ट्रेन, पढ़ें क्या है खासियत

 

 

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 13, 2019, 10:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...