Home /News /jharkhand /

Big News: जज उत्तम आनंद केस की चार्जशीट पर हाई कोर्ट ने उठाए सवाल, कहा- बाबुओं की तरह काम कर रही CBI

Big News: जज उत्तम आनंद केस की चार्जशीट पर हाई कोर्ट ने उठाए सवाल, कहा- बाबुओं की तरह काम कर रही CBI

धनबाद के जज उत्तम आनंद की मौत मामले की जांच कर रही सीबीआई ने चार्जशीट दाखिल की है (फाइल फोटो)

धनबाद के जज उत्तम आनंद की मौत मामले की जांच कर रही सीबीआई ने चार्जशीट दाखिल की है (फाइल फोटो)

Dhanbad Judge Uttam Anand Death Case: सीबीआई ने बहुचर्चित धनबाद के जिला एवं सत्र न्यायाधीश-8 उत्तम आनंद की संदिग्ध स्थिति में मौत के मामले में 20 अक्टूबर को दो अभियुक्तों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया है. इसके खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया है उनमें जज को धक्का मारने वाला ऑटो चालक लखन वर्मा और उसका साथी राहुल वर्मा का नाम शामिल हैं.

अधिक पढ़ें ...

रांची. जज उत्तम आनंद की संदिग्ध मौत मामले (Judge Uttam Anand Death Cas) में रांची हाई कोर्ट (Ranchi High Court) में सुनवाई हुई. इसमें कोर्ट ने केंद्रीय जांच ब्यूरो यानी सीबीआई की दायर चार्जशीट पर नाराजगी जाहिर की है.  सीबीआई को फटकार लगाते हुए कोर्ट ने मौखिक टिप्पणी करते हुए जांच एजेंसी की चार्जशीट को स्टीरियो टाइप बताया. कोर्ट ने सवाल उठाया कि चार्जशीट में हत्या की धारा का कोई प्रमाण नहीं है. हाई कोर्ट ने चार्जशीट के मोटिव को  गलत करार देते हुए कहा कि सीबीआई बाबुओं की तरह काम कर रही है. मामले की अगली सुनवाई 29 अक्टूबर को होगी, जिसमें वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीबीआई निदेशक को भी उपस्थित होने का निर्देश दिया गया है.

बता दें कि सीबीआई ने बहुचर्चित धनबाद के जिला एवं सत्र न्यायाधीश-8 उत्तम आनंद की संदिग्ध स्थिति में मौत के मामले में 20 अक्टूबर को दो अभियुक्तों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया है. इसके खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया गया है उनमें जज को धक्का मारने वाला ऑटो चालक लखन वर्मा और उसका साथी राहुल वर्मा का नाम शामिल हैं. फिलहाल दोनों न्यायिक हिरासत में धनबाद में जेल में बंद हैं.

गौरतलब है कि बीते 28 जुलाई, 2021 को धनबाद के रणधीर वर्मा चौक के समीप मॉर्निंग वॉक के दौरान जज को ऑटो ने धक्का मार दिया था. इसके बाद उनकी मृत्यु हो गई. धक्का मारने का सीसीटीवी फुटेज के पता चला कि जानबूझकर धक्का मारा गया है. इसके बाद मामले को जांच के लिए झारखंड हाई कोर्ट ने सीबीआई को सौंप दिया.

जज उत्तम आनंद की मौत की सीबीआई जांच कर रही है. सीबीआई जांच की हर सप्ताह रांची हाई कोर्ट समीक्षा करता है. करीब तीन महीने की जांच के दौरान अब तक साजिश का पता नहीं चल सका है. सीबीआई साजिश का पता लगाने में जुटी है.

28 जुलाई को जज की मौत के अगले दिन ही ऑटो चालक लखन और राहुल को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था. 90 दिन के अंदर अगर सीबीआई आरोप पत्र दाखिल नहीं करती तो दोनों को जमानत मिल सकती थी. माना जा रहा है कि सीबीआई ने इसी के मद्देनजर धनबाद स्थित विशेष कोर्ट में आरोप पत्र दाखिल कर दिया है.

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर