Home /News /jharkhand /

रांची: रिम्स में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल, इलाज के लिए इधर-उधर भटकते रहे सैकड़ों मरीज

रांची: रिम्स में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल, इलाज के लिए इधर-उधर भटकते रहे सैकड़ों मरीज

रांची स्थित रिम्स में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल की वजह से मरीज इलाज के लिए इधर-उधर भटकते रहे.

रांची स्थित रिम्स में जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल की वजह से मरीज इलाज के लिए इधर-उधर भटकते रहे.

Jharkhand News: नीट पीजी की काउंसिलिंग में हो रही देरी समेत अन्य मांगों को लेकर नाराज चल रहे जूनियर डॉक्टरों ने रिम्स के करीब 15 से अधिक विभागों में कार्य का बहिष्कार किया. ऐसे में इलाज के लिए अस्पताल पहुंचे मरीज इधर-उधर भटकते रहे. लेकिन, किसी ने उनका इलाज नहीं किया.

अधिक पढ़ें ...

    रांची. झारखंड की राजधानी रांची रिम्स (RIMS) में बुधवार को जूनियर डॉक्टर अपनी मांगों को लेकर एक दिन के हड़ताल पर रहे. दरअसल नीट पीजी की काउंसिलिंग में हो रही देरी समेत अन्य मांगों को लेकर नाराज चल रहे जूनियर डॉक्टरों ने रिम्स के करीब 15 से अधिक विभागों में कार्य का बहिष्कार किया. ऐसे में इलाज के लिए अस्पताल पहुंचे मरीज इधर-उधर भटकते रहे. लेकिन, किसी ने उनका इलाज नहीं किया. बताया जाता है कि रिम्स के ओपीडी में हर दिन करीब 1200 मरीज पर्ची कटवाते हैं. लेकिन, बुधवार को महज 100 के करीब पर्चियां काटी गईं. वहीं पर्ची कटवाने पहुंचे अन्य मरीजों को लौटा दिया गया. यही वजह है कि बुधवार को करीब 900 मरीज इलाज नहीं करवा सके.

    बता दें, रिम्स में हर दिन इलाज के लिए रांची समेत अलग जिलों से भी मरीज आते हैं, ऐसे में दूसरे जिलों से आए मरीजों को इलाज नहीं मिलने से वे लोग दिनभर परेशान होकर डॉक्टरों को ढूंढते रहे. कार्य बहिष्कार की वजह से गढ़वा, गिरिडीह, बोकारो, रांची व अन्य जिलों से इलाज कराने आए मरीजों को काफी परेशानी हुई.


    इधर कार्य बहिष्कार को लेकर जूनियर डॉक्टर एसोसिएशन के अध्यक्ष डॉ. विकास कुमार ने बताया कि नीट पीजी की काउंसिलिंग के मामले में सरकार उनकी मांगें नहीं मान रही है. इस वजह से एक बैच के डॉक्टरों को परेशानी हो रही है. सरकार हमारी मांग जल्द से जल्द मान लें, इसीलिए आज हमलोगों ने एक दिन का कार्य बहिष्कार किया है.

    हालांकि डॉ. विकास ने कहा कि जूनियर डॉक्टरों ने सिर्फ ओपीडी में हड़ताल किया. इमर्जेंसी के साथ इनहाउस मरीजों का इलाज जारी है. मरीजों को इलाज में परेशानी न हो इसके लिए इमर्जेंसी में 4 एक्सट्रा काउंटर भी लगाए गए हैं. डॉ. विकास ने कहा कि अगर इस मामले में जल्द से जल्द हमारी मांगे पूरी नहीं होंगी तो हम इमर्जेंसी विभाग में भी कार्य बहिष्कार करने पर मजबूर हो जाएंगे. बता दें, आईएमए ने भी जूनियर डॉक्टरों की हड़ताल का समर्थन किया है.

    Tags: Jharkhand news, Ranchi news, RIMS

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर