दल-बदल मामला: हाईकोर्ट जाएगा जेवीएम, महासचिव बोले- असंवैधानिक है स्पीकर कोर्ट का फैसला

जेवीएम महासचिव बंधु तिर्की ने कहा कि स्पीकर कोर्ट ने 6 बागी विधायकों की सदस्यता बचाने के लिए लोकतंत्र की हत्या कर दी.

News18 Jharkhand
Updated: February 22, 2019, 12:00 PM IST
दल-बदल मामला: हाईकोर्ट जाएगा जेवीएम, महासचिव बोले- असंवैधानिक है स्पीकर कोर्ट का फैसला
स्पीकर कोर्ट का फैसला अलोकतांत्रिक- जेवीएम
News18 Jharkhand
Updated: February 22, 2019, 12:00 PM IST
दलबदल मामले में स्पीकर कोर्ट के फैसले को जेवीएम हाईकोर्ट में चुनौती देगा. पार्टी के महासचिव बंधु तिर्की ने फैसले को अलोकतांत्रिक बताते हुए हाईकोर्ट में अपील करने की बात कही. पार्टी के अधिवक्ता आरएन सहाय ने कहा कि स्पीकर कोर्ट को पार्टी के विलय कोे लेकर फैसला देने का अधिकार नहीं है. ऐसे में पार्टी विधायक प्रदीप यादव और प्रकाश राम की सदस्यता को लेकर उठे सवाल अव्यवहारिक हैं.

अधिवक्ता ने संविधान की 10वीं अनुसूची के पारा 4 के सब पारा 1b का हवाला देते हुए कहा कि जेवीएम को इस फैसले से कोई खतरा नहीं है. वहीं महासचिव बंधु तिर्की ने कहा कि स्पीकर को अब अपनी कुर्सी पर बैठने का कोई नैतिक अधिकार नहीं है. स्पीकर कोर्ट ने 6 बागी विधायकों की सदस्यता बचाने के लिए लोकतंत्र की हत्या कर दी.

बंधु तिर्की के मुताबिक किसी भी दल का दूसरे दल में विलय निर्वाचन आयोग की स्वीकृति पर दल के संविधान के मुताबिक होता है. जबकि जेवीएम के संविधान के मुताबिक पार्टी का विलय केन्द्रीय समिति के दो- तिहाई सदस्यों की सहमति से हो सकता है. उन्होंने कहा कि जेवीएम के विलय को लेकर कोई आवेदन निर्वाचन आयोग के पास नहीं है.



रिपोर्ट- भुवन किशोर

ये भी पढ़ें- दल-बदल मामला: स्पीकर कोर्ट के फैसले पर बोले हेमंत- लोकतंत्र की हुई हत्या

दल-बदल मामला: विधानसभा न्यायाधिकरण ने सुनाया फैसला, सभी 6 विधायकों की सदस्यता बरकरार

 
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...