होम /न्यूज /झारखंड /झाविमो पूरे राज्य में भाजपा के चेहरे को उजागर करेगी : मरांडी

झाविमो पूरे राज्य में भाजपा के चेहरे को उजागर करेगी : मरांडी

झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम) के सभी छह बागी विधायकों ने स्पीकर प्रो. दिनेश उरांव को पत्र लिखकर विधानसभा में सत्ता पक्ष यानी भाजपा के साथ बैठने की अनुमति मांगी है। इस पर जेवीएम सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने कड़ी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए कहा है कि वो कानूनी रूप से सच की लड़ाई लड़ेंगे और राज्य की जनता इसका फैसला करेगी और पूरे राज्य में भाजपा के चेहरे को उजागर करेंगे।

झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम) के सभी छह बागी विधायकों ने स्पीकर प्रो. दिनेश उरांव को पत्र लिखकर विधानसभा में सत्ता पक्ष यानी भाजपा के साथ बैठने की अनुमति मांगी है। इस पर जेवीएम सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने कड़ी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए कहा है कि वो कानूनी रूप से सच की लड़ाई लड़ेंगे और राज्य की जनता इसका फैसला करेगी और पूरे राज्य में भाजपा के चेहरे को उजागर करेंगे।

झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम) के सभी छह बागी विधायकों ने स्पीकर प्रो. दिनेश उरांव को पत्र लिखकर विधानसभा में सत्ता पक्ष ...अधिक पढ़ें

    झारखंड विकास मोर्चा (जेवीएम) के सभी छह बागी विधायकों ने स्पीकर प्रो. दिनेश उरांव को पत्र लिखकर विधानसभा में सत्ता पक्ष यानी भाजपा के साथ बैठने की अनुमति मांगी है। इस पर जेवीएम सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने कड़ी प्रतिक्रिया व्‍यक्‍त करते हुए कहा है कि वो कानूनी रूप से सच की लड़ाई लड़ेंगे और राज्य की जनता इसका फैसला करेगी और पूरे राज्य में भाजपा के चेहरे को उजागर करेंगे।

    भाजपा अपनी सरकार और विधानसभा अध्यक्ष को अपने तरीके से इस्तेमाल करेगी जिसके खिलाफ जेवीएम आवाज बुलंद करेगा। भाजपा ने अनैतिक कार्य करने में कांग्रेस को भी पीछे छोड़ दिया है।

    आपको बता दें कि पूरे मामले को लेकर आज बाबूलाल मरांडी के नेतृत्व में जेवीएम प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल को ज्ञापन सौंपा। इसमें जेवीएम ने पूरे मामले की हाईकोर्ट के न्यायाधीश की अध्यक्षता में एक विशेष जांच दल का गठन करने की अपील की है।

    राजनीतिक दलों के जोड़-तोड़ को रोकने के लिए संविधान की अनुसूची दस में जो प्रावधान है, वह संपूर्ण नहीं है जिसके लिए जेवीएम मांग करती है कि संविधान में संशोधन कर ऐसा नियम बनाया जाए कि कोई भी निर्वाचित सदस्य जनादेश का उल्लंघन कर दूसरे दल में न जा सके। यदि निर्वाचित सदस्य दल बदलते हैं तो उसकी सदस्यता समाप्त हो।

    आप hindi.news18.com की खबरें पढ़ने के लिए हमें फेसबुक और टि्वटर पर फॉलो कर सकते हैं.

    Tags: Babulal marandi, BJP

    टॉप स्टोरीज
    अधिक पढ़ें