होम /न्यूज /झारखंड /

खूंटी: बेटे की चाहत में पिता ने छोड़ी थी नौकरी, अब हॉकी में बेटी निक्की प्रधान कर रही नाम रोशन

खूंटी: बेटे की चाहत में पिता ने छोड़ी थी नौकरी, अब हॉकी में बेटी निक्की प्रधान कर रही नाम रोशन

निक्की प्रधान टोक्यो ओलंपिक खेलने गई भारतीय महिला हॉकी टीम की महत्वपूर्ण सदस्य है. उसके माता-पिता उसकी इस उपलब्धि से काफी खुश हैं

निक्की प्रधान टोक्यो ओलंपिक खेलने गई भारतीय महिला हॉकी टीम की महत्वपूर्ण सदस्य है. उसके माता-पिता उसकी इस उपलब्धि से काफी खुश हैं

Jharkhand News: टोक्यो ओलंपिक में खेलने गई भारतीय महिला हॉकी टीम की प्लेयर निक्की के पिता सोमा प्रधान गर्व से बताते हैं कि उन्हें अपनी बेटियों पर गर्व है. उन्होंने कहा कि हॉकी के खेल की अच्छी खिलाड़ी मेरी चारों बेटियों ने परिवार का मान और सम्मान पूरे देश और दुनिया में बढ़ाया है

अधिक पढ़ें ...

रांची. टोक्यो ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी (Women’s Hockey Team) टीम जहां अपने मजबूत इरादे वाले खेल का प्रदर्शन कर रही है. वहीं, दूसरी तरफ टीम की मजबूत डिफेंडर निक्की प्रधान (Nikki Pradhan) का छोटा सा गांव अपनी किस्मत पर इठला रहा है. झारखंड की राजधानी रांची (Ranchi) से सटे खूंटी के हेसल गांव में चारों तरफ बेटियों की उपलब्धियों की चर्चा है. इस गांव से अब तक 26 खिलाड़ियों ने हॉकी के खेल में अपना करियर बनाया है. इनमें से आधी से ज्यादा संख्या बेटियों की है. हेसल गांव के कई हॉकी खिलाड़ियों ने अपनी प्रतिभा की बदौलत राज्यस्तरीय, अंतरराष्ट्रीय और ओलंपिक (Olympic) प्रतियोगिता में देश का प्रतिनिधित्व किया है.

निक्की के पिता सोमा प्रधान गर्व से बताते हैं कि आज उन्हें अपनी बेटियों पर गर्व है. उनकी चार बेटियां और एक बेटा है. लेकिन एक समय ऐसा भी था जब उन्होंने बेटे की चाहत में सरकारी नौकरी छोड़ दी थी और बिहार से अपने घर खूंटी लौट आए थे. फिर उसके बाद वो एक बेटे के पिता बने. वर्तमान में सोमा प्रधान का बेटा दसवीं की पढ़ाई कर रहा है. आज वो गर्व से बताते हैं कि उनकी चारों बेटियों ने उनका मान और सम्मान बढ़ाया है. निक्की की तीनों बहनें भी हॉकी की अच्छी खिलाड़ी हैं.

वहीं, निक्की की मां बताती है कि बेटा नहीं होने के कारण समाज और परिवार के लोग उन पर ताना कसते थे, और परिवार में वंश नहीं होने की बात कहते थे. लेकिन आज मेरी चारों बेटियों की हॉकी के कमाल ने लोगों और समाज का मुंह बंद कर दिया है. उन्होंने कहा कि दो बार ओलंपिक खेलने वाली निक्की की उपलब्धि ने खूंटी के हेसल गांव को देश और दुनिया में एक नई पहचान दी है.

Tags: Indian women hockey team, Indian women's hockey player, Khunti district, Ranchi news

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर