Ranchi Corona News: रांची में बढ़ते कोरोना के बीच ऑक्सीजन की कमी, बाहर सप्लाई पर होगी सख्ती

रांची के अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी. सांकेतिक फोटो.

रांची के अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी. सांकेतिक फोटो.

Ranchi Corona News: झारखंड की राजधानी रांची में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच अस्पतालों में ऑक्सीजन की भारी कमी का हवाला दिया जा रहा है. बीते दिनों मंत्री की मौजूदगी में इलाज के अभाव में मरीज की मौत भी सुर्खियों में रही.

  • Share this:
रांची. झारखंड की राजधानी रांची में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के बीच अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी का हवाला दिया जा रहा है. राज्य सरकार के एक आदेश में 50 फीसद बेड कोरोना मरीजों के लिए आरक्षित करने की बात कही गई है. इसको लेकर जिला प्रशासन ने जब नकेल कसी तो निजी अस्पताल ऑक्सिजन की कमी का रोना रोने लगे, इसके बाद रांची उपायुक्त ने ऑक्सीजन सप्लायरों के साथ एक मीटिंग की और निर्देश दिए कि अगर चोरी छिपे ऑक्सीजन प्रदेश से बाहर भेजी गई तो कड़ी कार्रवाई की जाएगी. शहर के 4 नामी अस्पतालों को डीडीसी ने शो कॉज जारी कर दिए हैं..

अतिरिक्त बेड की व्यवस्था सुनिश्चित करने के लिए जिला प्रशासन लगातार कवायद कर रहा है. इसी कड़ी में उपायुक्त रांची छवि रंजन और उप विकास आयुक्त रांची विशाल सागर ने सभी निजी अस्पताल प्रबंधकों के साथ एक वर्चुअल मीटिंग की. वर्चुअल मीटिंग में राज्य सरकार के निर्देश के मद्देनजर सभी अस्पतालों को 50% बेड कोरोना मरीजों के लिए रिजर्व रखने की व्यवस्था की समीक्षा की गई . इसी दौरान 4 अस्पताल जिला प्रशासन के रडार पर आए, जिन्हें नोटिस जारी किया गया. इसमे शामिल अस्पताल मेडिका, मेदान्ता, सी सी एल गांधीनगर और सेवा सदन शामिल रहे जिनका नाम शहर के नामी अस्पतालों में शुमार है.

Youtube Video


ऑक्सीजन सप्लायरों को सख्त निर्देश
रांची उपायुक्त ने ऑक्सीजन सप्लायरों के साथ एक महत्वपूर्ण बैठक की और इस बैठक में निर्देश दिया कि ऑक्सीजन की सप्लाइ दूसरे प्रदेश में न हो इसका विशेष ख्याल रखा जाए. इस समय रांची में 30 टन ऑक्सीजन की सप्लाई की जा रही है. जबकि प्रतिदिन 70 टन ऑक्सीजन की जरूरत है. रांची उपायुक्त ने बताया कि झारखंड में 3 लिक्विड ऑक्सीजन सप्लाई के प्लांट हैं. जानकारी के अनुसार यहां से इस लिक्विड ऑक्सीजन कि सप्लाई बंगाल सहित अन्य प्रदेशों में की जा रही है. जिसके मद्देनज़र प्रशासन कड़ी नजर रखे है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज