जेल में ही मनेगी लालू प्रसाद की होली, सुप्रीम कोर्ट से तत्काल नहीं मिली राहत

रिम्स में लालू प्रसाद के समर्थक सुप्रीम कोर्ट से बेल लंबा खींच जाने के बाद थोड़े निराश हैं. इससे निश्चित हो गया है कि लालू की इस बार की होली जेल में ही मनेगी.

Ajay Lal | News18 Jharkhand
Updated: March 16, 2019, 9:35 AM IST
जेल में ही मनेगी लालू प्रसाद की होली, सुप्रीम कोर्ट से तत्काल नहीं मिली राहत
लालू प्रसाद यादव (फाइल चित्र)
Ajay Lal
Ajay Lal | News18 Jharkhand
Updated: March 16, 2019, 9:35 AM IST
अदालती चक्कर और रांची के मौसम में आ रहे उतार-चढ़ाव के बीच राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद लगातार थकावट महसूस कर रहे हैं. लालू प्रसाद का इलाज करा रहे डाक्टरों ने लालू प्रसाद की सेहत पर लगातार ध्यान रख रहे हैं. इस बीच रिम्स में लालू प्रसाद के समर्थक सुप्रीम कोर्ट से बेल लंबा खींच जाने के बाद थोड़े निराश हैं. इससे निश्चित हो गया है कि लालू की इस बार की होली जेल में ही मनेगी. लालू के केस की सुनवाई अब होली से काफी आगे की है. सुप्रीम कोर्ट में जमानत पर लालू प्रसाद की सुनवाई की खबर सुनकर बड़ी संख्या में राजद समर्थक रिम्स पहुंच थे लेकिन उन्हें अदालती कार्रवाई के बाद निराशा हुई है.

रांची के रिम्स में अदालती चक्कर के बीच अपना इलाज करा रहे लालू प्रसाद शुक्रवार को अचानक थका-थका महसूस करने लगे. लिहाजा डाक्टरों ने एक बार फिर लालू प्रसाद की सेहत से जुड़ी कई जांच को दोबारा कराने का निर्णय लिया है. डॉक्टर डीके झा ने कहा कि लालू प्रसाद का किडनी ठीक से काम नहीं कर रही है.

लालू को साथ ही कई प्रकार की अन्य समस्या हैं. आज की तारीख में लालू प्रसाद कुल 22 प्रकार की दवाएं खा रहे हैं.रिम्स प्रबंधन की सख्ती के बाद पिछले चार माह से लालू प्रसाद को नॉन भेज खाना नहीं मिला है. डॉक्टरों ने बताया कि लालू प्रसाद हल्का फुल्का ही एक्सरसाईज कर पा रहे हैं.



 पूर्व मुख्य सचिव सजल चकवर्ती  की जमानत याचिका भी हुई खारिज

चारा घोटाला के मामले में झारखंड सरकार के पूर्व मुख्य सचिव को भी हाइकोर्ट से झटका लगा है. पूर्व सचिव सजल चकवर्ती की जमानत याचिका पर न्यायाधीश अपरेश कुमार सिंह की अदालत में मामले पर सुनवाई हुई. कोर्ट ने मामले में दोनों पक्षों को सुनने के उपरांत बेल याचिका खारिज कर दी. फिलहाल सजल जेल में हैं. पूर्व में उनको हाइकोर्ट से एक मामले में बेल मिल चुका है. चाईवासा कोषागार से अवैध निकासी के एक मामले में उन्हें पहले बेल दे दिया गया है. एक अन्य मामले में जमानत याचिका कोर्ट ने खारिज की है.

यह भी पढ़ें - झारखंड महागठबंधन: 'पांच' के पेंच में फंसा सीट शेयरिंग का फॉर्मूला

 
Loading...

यह भी पढ़ें - पुलिस ने रोका बाल विवाह, लड़की की मां व भाई सहित चार गिरफ्तार
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...