लालू प्रसाद के स्वास्थ्य में सुधार नहीं, सिर्फ 38 प्रतिशत काम कर रही है किडनी

Upendra Kumar | News18 Jharkhand
Updated: September 8, 2019, 12:38 AM IST
लालू प्रसाद के स्वास्थ्य में सुधार नहीं, सिर्फ 38 प्रतिशत काम कर रही है किडनी
लालू प्रसाद का इलाज कर रहे डॉ. डीके झा ने कहा कि उन्हें डायलेसिस की कोई जरूरत नहीं है. (फाइल फोटो)

रांची में रिम्स के पेइंग वार्ड में भर्ती राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद के स्वास्थ्य में कोई खास सुधार नहीं हुआ है. अभी भी लालू प्रसाद की किडनी 38 से 42 प्रतिशत ही काम कर रही है.

  • Share this:
रांची. रिम्स (RIMS) के पेइंग वार्ड में भर्ती राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद (Lalu Prasad) के स्वास्थ्य में कोई खास सुधार नहीं हुआ है. अभी भी लालू प्रसाद की किडनी (Kidney) 38 से 42 प्रतिशत ही काम कर रही है. उनके शरीर में यूरिया  (Urea) की मात्रा ज्यादा है. किडनी रोग के स्टेज 3 ए के मरीज लालू प्रसाद के चिकित्सक डॉ. डीके झा ने साप्ताहिक हेल्थ बुलेटिन जारी करते हुए कहा कि लालू प्रसाद के शरीर में जो फोड़ा हो गया था वह सूख गया है. इसके बाद कल से एंटीबॉयोटिक्स (Antibiotics) दवाएं बंद कर दी गई हैं. डॉ. डीके झा ने कहा कि यूरिया की मात्रा बढ़ने के चलते लालू प्रसाद को दिए जानेवाले अंडे की मात्रा कम कर दी गई है.

लालू प्रसाद को इंटेंसिव मॉनिटरिंग (intensive monitoring) में रखने की बात कहते हुए चिकित्सक ने कहा कि लालू प्रसाद का किडनी फंक्शन गिरा है. वह तात्कालिक है या स्थायी इसका पता दो से तीन हफ्ते में चल सकेगा. डॉ. डीके झा ने कहा कि अभी डायलेसिस (Dialysis) की कोई जरूरत लालू प्रसाद को नहीं है.

लालू से मिले उपेन्द्र कुशवाहा

रिम्स में भर्ती राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद से जेल नियम के अनुसार तीन लोगों में पूर्व केन्द्रीय मंत्री उपेन्द्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha), बिहार के पूर्व मंत्री एवं वयोवृद्ध नेता भोला राय और विधानपार्षद रणविजय सिंह ने मुलाकात की. लालू प्रसाद से मुलाकात के बाद उपेन्द्र कुशवाहा ने कहा कि लालू प्रसाद की सेहत ठीक नहीं है और उन्हें बेहतर इलाज की जरूरत हैं. उन्होंने कहा कि महागठबंधन के नेताओं को लालू प्रसाद के स्वास्थ्य की चिंता है.

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि महागठबंधन के नेताओं को लालू प्रसाद के स्वास्थ्य की चिंता है.


उपेन्द्र कुशवाहा ने रांची पहुंचे नीतीश कुमार और उनके पार्टी के नीतीश मॉडल लाओ और झारखंड बचाओ के नारे पर कटाक्ष करते हुए कहा कि भगवान न करे कि बिहार में नीतीश मॉडल आए. उन्होंने कहा कि ऐसा हुआ तो जिन समस्याओं से बिहार जूझ रहा है वही सिचुएशन झारखंड को झेलना पड़ेगा.

ये भी पढ़ें - झारखंड में नीतीश ने कार्यकर्ताओं से शऱाबबंदी को चुनावी मुद्दा बनाने की अपील की
Loading...

ये भी पढ़ें - ...यहां सरकारी स्कूल में छत के नीचे छाता लगाकर बैठते हैं बच्चे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 7, 2019, 11:40 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...