लालू प्रसाद को सताई रामविलास पासवान की याद, बेल की खुशी गायब, समर्थकों से भी हुए नाराज

लालू प्रसाद यादव. (फाइल फोटो)
लालू प्रसाद यादव. (फाइल फोटो)

शुक्रवार को चारा घोटाले (Fodder Scam) से जुड़े एक मामले में लालू प्रसाद को जमानत मिली. जैसे ही उनके समर्थकों को इसकी खबर लगी वे मिठाईयां बांट कर खुशियां मनाने लगे. इस बात से लालू काफी नाराज हो गए.

  • Share this:
रांची. राजद (Rashtriya Janata Dal) परिवार के लिए आज का दिन भले ही खुशी वाला हो क्योंकि राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद को झारखंड उच्च न्यायालय से चारा घोटाला (Fodder Scam) के एक और मामले में बेल मिल गया है, पर लालू प्रसाद (Lalu Prasad Yadav) आज भी मर्माहत दिखे और रिम्स केली बंगले के बाहर बेल की मिठाईयां बांटने की जानकारी मिलने पर नाराज हो गए. उनकी नाराजगी ही थी कि राजद के वरीय उपाध्यक्ष राजेश यादव को कहना पड़ा कि रामविलास पासवान के निधन से पूरा राजद परिवार मर्माहत है और मिठाईयां बांटने वाले राजद के नेता नहीं हो सकते.

अपने सहयोगी रहे रामविलास  पासवान के निधन के बाद से लालू प्रसाद ने गुरुवार को एक ट्वीट के माध्यम से दिवंगत नेता को भाई संबोधन के साथ श्रद्धांजलि दी थी बल्कि यह भी कहा कि उनके निधन के बाद वह ज्यादा बोलने तक की स्थिति में नहीं है.

लालू प्रसाद की जमानत से उत्साहित कार्यकर्ता मना रहे थे खुशियां



शुक्रवार को चारा घोटाला मामले में चाईबासा कोषागार से अवैध निकासी मामले में लालू प्रसाद को बेल मिलने की खबर के बाद रिम्स के केली बंगले के बाहर उनके समर्थक कार्यकर्ता मिठाईयां बांटने लगे. जैसे ही लालू प्रसाद को यह जानकारी मिली की उनके समर्थक मिठाईयां बांट कर खुशियां मना रहे हैं उन्होंने संतरी से कहकर सभी को मिठाईयां बांटने से रोक दिया और कहा कि रामविलास पासवान के निधन के बाद अभी वक्त खुशियां मनाने का नहीं है. लालू प्रसाद के सख्त निर्देश के बाद वरीय उपाध्यक्ष राजेश यादव ने कहा कि राजद और पूरी पार्टी रामविलास पासवान के निधन से मर्माहत है और सुप्रीमो लालू प्रसाद के जमानत की खुशी के बावजूद अभी यह वक्त खुशियां मनाने का नहीं है. राजद के वरीय उपाध्यक्ष ने कहा कि मिठाईयां बांटने वाले राजद के नेता नहीं थे.
लगातार देखते रहे रामविलास पासवान से जुड़ी खबर

लालू प्रसाद के स्वास्थ्य जांच कर केली बंगले से बाहर निकले रिम्स के वरीय चिकित्सक डॉ. उमेश प्रसाद ने कहा कि ब्लड शुगर उनका बढ़ा है जिस पर उनकी नजर है. जमानत को लेकर खुशी के सवाल पर लालू प्रसाद के चिकित्सक ने कहा कि उन्होंने सिर्फ इतना कहा कि एक मामले में उन्हें जमानत मिल गयी है और नवम्बर में भी एक अन्य मामले में बेल मिलने की उन्हें उम्मीद है. पर वह आज दिन भर news18 पर दिवंगत नेता रामविलास पासवान से जुड़ी खबरें देखते रहे और बीच-बीच में पुरानी यादों में मानों डूब रहे.

ये भी पढ़ें: PHOTOS: हाईटेक होगी 'अयोध्या की रामलीला', ये कलाकार निभाएंगे राम और सीता का रोल

किस मामले में लालू प्रसाद को मिली है जमानत

चारा घोटाला मामले में चाईबासा कोषागार से जुड़े चारा घोटाला मामले में लालू प्रसाद को जमानत मिल गई है. झारखंड हाईकोर्ट में न्यायाधीश अपरेश कुमार सिंह की अदालत में हुई सुनवाई के बाद जमानत याचिका को स्वीकार कर लिया गया. कोर्ट ने 50-50 हजार का दो निजी मुचलका और दो लाख का फाइन का आदेश देते हुए जमानत दे दी. इसके अलावे सुनवाई के दौरान कोर्ट ने रिम्स से लालू प्रसाद की मेडिकल रिपोर्ट भी मांगा था.

जमानत के बाद भी अभी जेल में रहेंगे लालू प्रसाद

चाईबासा ट्रेजरी घोटाला मामले में जमानत मिलने के बाद भी लालू प्रसाद अभी बाहर नहीं निकल पाएंगे. लालू प्रसाद को चारा घोटाला के एक अन्य केस दुमका ट्रेजरी से जुड़े मामले में जमानत मिलने के बाद ही बाहर निकल पाएंगे. दुमका केस में लालू प्रसाद का हाफ सेंटेंस 09 नवंबर को पूरा होगा जिसके बाद कोर्ट में जमानत याचिका दाखिल की जाएगी. चाईबासा ट्रेजरी से जुड़े चारा घोटाला के इस केस में तकरीबन 37 करोड़ अवैध निकासी को सही मानते हुए 24 जनवरी 2018 को रांंची सीबीआई कोर्ट द्वारा लालू यादव को 5 साल की सजा सुनाई गई थी. लालू प्रसाद ने अपने जमानत याचिका में आधी सजा काटने और स्वास्थ्य कारणों का हवाला दिया था.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज