कोरोना के खतरे को देखते हुए रिम्स में लालू यादव का बदला जाएगा वार्ड, जानें- कहां होंगे शिफ्ट?
Ranchi News in Hindi

कोरोना के खतरे को देखते हुए रिम्स में लालू यादव का बदला जाएगा वार्ड, जानें- कहां होंगे शिफ्ट?
लालू यादव को रिम्स निदेशक के बंगले में शिफ्ट कराने की तैयारी चल रही है. (फाइल फोटो)

लालू यादव (Lalu Yadav) रिम्स के पेइंग वार्ड के जिस तल्ले में भर्ती हैं, उसके ऊपर और नीचे के तल्ले पर कोविड वार्ड (Covid Ward) बनाया गया है. ऐसे में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के खतरे को देखते उन्हें दूसरी जगह शिफ्ट करने की तैयारी की जा रही है.

  • Share this:
रांची. झारखंड की राजधानी रांची (Ranchi) में कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के तेज प्रसार को देखते हुए रिम्स (RIMS) में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद (Lalu Yadav) का वार्ड बदलने की तैयारी की जा रही है. उन्हें पेइंग वार्ड से अस्पताल परिसर में ही स्थित रिम्स निदेशक के बंगले में शिफ्ट किया जाएगा. दरअसल उनके तीनों सेवादार के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद कोरोना के खतरे को देखते हुए ये फैसला लिया गया है.

ऊपर-नीचे कोरोना वार्ड बीच में भर्ती हैं लालू यादव 

बता दें कि फिलहाल लालू यादव रिम्स के पेइंग वार्ड के जिस तल्ले में भर्ती हैं, उसके ऊपर और नीचे के तल्ले पर कोविड वार्ड बनाया गया है. ऐसे में कोरोना संक्रमण के खतरे को देखते हुए लालू यादव का इलाज कर रहे डॉक्टर उमेश प्रसाद ने उन्हें दूसरी जगह शिफ्ट करने की सलाह अस्पताल प्रबंधन को दी. जिसके बाद रिम्स निदेशक और अधीक्षक की ओर से लालू यादव की शिफ्टिंग को लेकर रांची के होटवार जेल प्रशासन, जेल आईजी, रांची एसएसपी को इस संबंध में पत्र लिखा गया है. रिम्स प्रबंधन पत्र पर प्रशासनिक निर्देश मिलते ही लालू यादव को निदेशक के बंगले में शिफ्ट कराएगा.



पत्र में लालू प्रसाद को रिम्स निदेशक के बंगले में शिफ्ट करने का सुझाव दिया गया है. हालांकि इस पर अंतिम फैसला सुरक्षा के मद्देनजर जेल प्रशासन और रांची प्रशासन को लेना है.
डॉक्टर ने दी शिफ्ट करने की सलाह 

लालू प्रसाद का इलाज कर रहे डॉक्टर उमेश प्रसाद ने कहा कि रिम्स में पेइंग वार्ड में लालू पर कोरोना संक्रमण का खतरा बढ़ गया था. इसलिए उन्होंने रिम्स अधीक्षक और निदेशक को लालू प्रसाद को कहीं और शिफ्ट करने की सलाह दी.

डॉक्टर के मुताबिक लालू प्रसाद को बढ़ती उम्र के साथ कई तरह की बीमारियां हैं. लिहाजा उनको संक्रमण का खतरा ज्यादा है. उनके तीनों सेवादार पहले ही कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं. ऐसे में लालू यादव के स्वास्थ्य को ध्यान में रखते हुए वार्ड बदलना जरूरी है.

परिवारवालों ने जताई स्वास्थ्य की चिंता 

बता दें कि चारा घोटाले के चार मामलों में सजा काट रहे आरजेडी सुप्रीमो को 15 से ज्यादा बीमारियां हैं. उन्हें एक दिन में 12 तरह की दवाइयां दी जा रही हैं. रिम्स में कोरोना के बढ़ते मरीजों को देखते हुए परिवार की तरफ से भी लालू यादव के स्वास्थ्य को लेकर चिंता जताई गई थी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading