बेल के बावजूद जेल में रहेंगे लालू यादव, ये है पेंच

देवघर कोषागार मामले में आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव को जमानत मिली है. लेकिन वह जेल से बाहर नहीं निकल पाएंगे. जेल से निकलने के लिए उन्हें चाईबासा और दुमका मामलों में भी बेल लेनी होगी.

News18 Jharkhand
Updated: July 12, 2019, 11:07 PM IST
News18 Jharkhand
Updated: July 12, 2019, 11:07 PM IST
बहुचर्चित चारा घोटाला के देवघर कोषागार मामले में आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव को झारखंड हाईकोर्ट से बड़ी राहत मिली है. हाईकोर्ट ने उन्हें इस मामले में जमानत दी है. लेकिन इसके बावजूद वह जेल से बाहर नहीं निकल पाएंगे. जेल से निकलने के लिए उन्हें चाईबासा और दुमका मामलों में भी बेल लेनी होगी. हालांकि देवघर मामले में मिली बेल से उन्हें इन दोनों मामलों में जमानत लेने में मदद मिलेगी.

इन मामलों में जमानत याचिका दायर नहीं


चाईबासा और दुमका कोषागार मामले में लालू प्रसाद को सीबीआई की अदालत से सात और पांच साल की सजा मिली है. इन दोनों मामलों में उनकी तरफ से हाईकोर्ट में अपील याचिका दायर है. हालांकि जमानत याचिका दायर नहीं की गई है. उधर डोरंडा कोषागार मामले में सीबीआई कोर्ट में सुनवाई चल रही है.

रिम्स में डॉक्टरों के साथ लालू प्रसाद


आधी सजा काट लेने के आधार पर मिली बेल
देवघर कोषागार मामले में लालू प्रसाद को आधी सजा काट लेने के आधार पर बेल मिली है. हालांकि सीबीआई के वकील ने सुनवाई के दौरान ये कहकर विरोध किया कि चूंकि लालू प्रसाद को पहले भी बेल मिल चुकी है. इसलिए उनकी पूरी कस्टडी आधी सजा के बराबर नहीं है. घोटाले के वक्त वह सीएम थे और वित्त मंत्री के भी चार्ज में थे. ऐसे में उन्हें जमानत नहीं मिलनी चाहिए. लेकिन लालू प्रसाद के वकील ने तर्क दिया कि चूंकि इस मामले में अन्य दोषियों को आधी सजा काट लेने के आधार पर बेल मिली है. ऐसे में लालू प्रसाद को भी मिलनी चाहिए. कोर्ट ने सीबीआई के वकील की दलील को दरकिनार करते हुए लालू प्रसाद को जमानत दी.

देवघर मामले में मिली है साढ़े तीन साल की सजा
Loading...

बता दें कि लालू यादव की ओर से देवघर कोषागार मामले में जमानत याचिका दायर की गई थी. इस मामले में सीबीआई की अदालत ने उन्हें साढ़े तीन साल की सजा दी है. इसमें से आधी से अधिक सजा वह काट चुके हैं. इसी को आधार बनाकर लालू प्रसाद की ओर से जमानत की मांग की गई थी. चारा घोटाले में दोषी ठहराए जाने के बाद 23 दिसंबर, 2017 से वह रांची के होटवार जेल में बंद हैं. फिलहाल जेल प्रशासन की देख रेख में रांची के रिम्स में उनका इलाज चल रहा है. पूर्व सीएम कई बीमारियों से जुझ रहे हैं.

(इनपुट- नीरज नयन चौधरी)

ये भी पढ़ें- लालू यादव को राहत, देवघर कोषागार मामले में मिली जमानत

 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...