ऋचा पटेल मसला: पक्ष-विपक्ष ने पुलिसिया कार्रवाई पर उठाये सवाल

रांची सांसद संजय सेठ ने कहा कि छात्रा ने कोई बड़ा क्राइम नहीं किया था. पुलिस आपस में समझौता करा सकती थी, लेकिन गिरफ्तार कर जेल भेज दी.

News18 Jharkhand
Updated: July 17, 2019, 5:09 PM IST
ऋचा पटेल मसला: पक्ष-विपक्ष ने पुलिसिया कार्रवाई पर उठाये सवाल
रांची सांसद संजय सेठ ने कहा कि छात्रा ने कोई बड़ा क्राइम नहीं किया था. पुलिस आपस में समझौता करा सकती थी, लेकिन गिरफ्तार कर जेल भेज दी.
News18 Jharkhand
Updated: July 17, 2019, 5:09 PM IST
ऋचा पटेल मसले पर रांची से लेकर दिल्ली तक में सियासत शुरू हो गई है. पक्ष हो या विपक्ष, हर कोई पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठा रहे हैं. इसी बीच ऋचा ने राज्य महिला आयोग का दरवाजा खटखटाने का फैसला लिया है. वह हाईकोर्ट भी जाएगी. झारखंड सरकार के मंत्री सीपी सिंह ने कानूनी लड़ाई लड़ने में ऋचा को हर संभव मदद देने का भरोसा दिलाया है.

पुलिस की कार्रवाई की निंदा

झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) महासचिव विनोद पांडेय ने कहा कि पुलिस ने पोस्ट करने वाले शख्स पर नहीं, बल्कि शेयर करने वाली छात्रा पर कार्रवाई की. ऐसे में पुलिस की कार्रवाई बेहद निंदनीय है.

झारखंड कांग्रेस के प्रवक्ता आलोक दुबे ने कहा कि अदालत का यह फैसला सद्भावना की मिसाल है. जबकि मंत्री सीपी सिंह पर इस पर राजनीति कर रहे हैं.

जेवीएम नेता सुनील गुप्ता का कहना है कि किसी को कानून हाथ में लेने की इजाजत नहीं है. पुलिस इस मामले में कार्रवाई कर रही है. जमानत की शर्त को लेकर जेवीएम नेता ने कुछ भी बोलने से इनकार कर दिया.

उधर, दिल्ली में रांची सांसद संजय सेठ ने कहा कि छात्रा ने कोई बड़ा क्राइम नहीं किया था. पुलिस आपस में समझौता करा सकती थी, लेकिन गिरफ्तार कर जेल भेज दी. हमको कोई कह दे कि आपको वोट तभी देंगे, जब दो बार नमाज पढ़िएगा, तो क्या ये संभव है. यह एक धर्म से जुड़ा मुद्दा है. इसलिए जहां भी आवाज उठनी होगी, हम उठाएंगे.

रांची सांसद संजय सेठ (फाइल फोटो)

Loading...

ये है पूरा मामला 

बता दें कि रांची के पिठोरिया की छात्रा ऋचा पटेल ने सोशल साइट पर धार्मिक पोस्ट किया था. इसके बाद अंजुमन इस्लामिया (पिठोरिया) के प्रमुख मंसूर खलीफा ने रांची के पिठोरिया थाने में 12 जुलाई को प्राथमिकी दर्ज कराई थी. इसमें उन्होंने ऋचा पर मुस्लिम समुदाय की धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया. इसके बाद पिठोरिया पुलिस ने शुक्रवार की शाम को ऋचा को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया था. इस मामले में सोमवार को न्यायिक दंडाधिकारी मनीष कुमार सिंह की अदालत ने कुरान की पांच प्रतियां बांटने की शर्त पर ऋचा को जमानत दी थी. कोर्ट ने यह भी कहा था कि पिठोरिया पुलिस के संरक्षण में मंगलवार शाम तक ऋचा कुरान की एक प्रति अंजुमन इस्लामिया के सदर मंसूर खलीफा को देगी. बाकी चार विभिन्न शिक्षण संस्थानों में बांटेगी. इसके लिए ऋचा को 15 दिन का समय दिया गया है.

इनपुट- मनोज, अजयलाल

ये भी पढ़ें- ऋचा पटेल मामला: शर्त को लेकर वकीलों में नाराजगी, संबंधित कोर्ट का किया बहिष्कार

ऋचा पटेल के समर्थन में आए मंत्री, कहा- मुझे भी यह फैसला पच नहीं रहा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 17, 2019, 5:01 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...