लाइव टीवी

Lockdown 4.0: Swiggy ने रांची में शुरू की शराब की होम डिलीवरी
Ranchi News in Hindi

News18 Jharkhand
Updated: May 21, 2020, 5:02 PM IST
Lockdown 4.0: Swiggy ने रांची में शुरू की शराब की होम डिलीवरी
स्विगी ने झारखंड सरकार से सभी जरूरी मंजूरी प्राप्त करने के बाद रांची में शराब की होम डिलीवरी शुरू की है

खाद्य पदार्थों की होम डिलीवरी करने वाली कंपनी स्विगी (Swiggy)  अब झारखंड की राजधानी रांची में शराब की होम डिलीवरी (Liquor Home Delivery) करेगी.  

  • Share this:
रांची. देशभर के बड़े शहरों में खाद्य पदार्थों की होम डिलीवरी करने वाली कंपनी स्विगी (Swiggy) ने हाल ही में कोविड-19 की वजह से अपने कारोबार में आयी जोरदार कमी के बाद 1100 कर्मचारियों को निकालने दिया है. हालांकि अब वह झारखंड की राजधानी रांची में शराब की होम डिलीवरी (Liquor Home Delivery) करेगी.

अन्‍य राज्‍यों में भी करेगी होम डिलीवरी
स्विगी ने कहा कि झारखंड सरकार से सभी जरूरी मंजूरी प्राप्त करने के बाद कंपनी ने रांची में शराब की होम डिलीवरी शुरू की है और इसके बाद अगले एक हफ्ते में राज्य के अन्य शहरों में भी शराब की होम डिलीवरी शुरू करने की कंपनी की योजना है. जबकि कंपनी दूसरे राज्यों में ‘ऑनलाइन आर्डर’ पूरा करने और उसकी ‘होम डिलीवरी’ के लिये संबंधित राज्य सरकारों से भी बातचीत कर रही है. स्विगी ने एक बयान में कहा कि रांची में घरों तक शराब की आपूर्ति का काम शुरू हो गया है, राज्य के अन्य शहरों में एक सप्ताह के भीतर यह शुरू हो जाएगा. आपको बता दें कि स्विगी ने कानून के अनुसार अल्कोहल की सुरक्षित आपूर्ति सुनिश्चित करने को लेकर कदम उठाये हैं. इसमें अनिवार्य रूप से उम्र और उपयोगकर्ता के सत्यापन के उपाय शामिल हैं.

स्विगी के उपाध्यक्ष (उत्पाद) ने कही ये बात



स्विगी के उपाध्यक्ष (उत्पाद) अनुज राठी ने कहा कि सुरक्षित और जवाबदेह तरीके से अल्कोहल की घरों तक आपूर्ति के जरिये हम खुदरा दुकानदारों के लिए अतिरिक्त कारोबार सृजित कर सकते हैं. साथ ही शराब की दुकानों पर भीड़-भाड़ की समस्या भी दूर होगा और सोशल डिस्‍टेंसिंग को बढ़ावा मिलेगा. उन्होंने कहा कि कंपनी के पास प्रौद्योगिकी और ढांचागत सुविधा है जिससे वह छोटे-छोटे गली-मोहल्ले भी सामानों की आपूर्ति कर सकती है. कंपनी किराना सामानों और कोविड-19 राहत उपायों का दायर बढ़ाने जैसी पहल के लिये स्थानीय प्रशासन के साथ मिलकर काम कर रही है. बयान के अनुसार स्विगी के उपाध्यक्ष (उत्पाद) ने राज्य सरकारों के दिशानिर्देश के अनुसार लाइसेंस और अन्य जरूरी दस्तावाजों का सत्यापन करने के बाद अधिकृत खुदरा दुकानदारों के साथ गठजोड़ किया है.



ऐसे होगी शराब की सुरक्षित डिलीवरी
स्विगी ने शराब की सुरक्षित डिलीवरी करने के लिए और सभी लागू नियमों का पालन करने के लिए कई उपाय किये हैं जैसे अनिवार्य रूपये उम्र की जांच और डिलीवरी के समय उसका वेरीफिकेशन करने के बाद ही डिलीवरी देना. ग्राहक अपना एक वैध सरकारी आईडी और अपना सेल्फी अपलोड करके अपनी उम्र का वेरीफिकेशन करवा सकते हैं. कंपनी ने बताया कि सभी ऑर्डर के लिए एक यूनिक ओटीपी होगा जो डिलीवरी करते समय ग्राहक द्वारा उपलब्ध कराना होगा. इसका भी ध्यान रखा गया है कि राज्य सरकार द्वारा निर्धारित मात्रा से अधिक मात्रा में कोई भी ग्राहक शराब का ऑर्डर नहीं कर सके. रांची के ग्राहक अपने Swiggy app को अपडेट करके Wine Shops कैटेगरी में जाकर इस सुविधा का लाभ उठा सकते हैं.

रांची में महंगी हुई शराब
सरकार के आदेश के बाद झारखंड में बुधवार से शराब की दुकानें (Liquor Shop) खुल गयी हैं. हालांकि लोगों को पीने के लिए ज्यादा खर्च करने होंगे, क्योंकि प्रदेश में 20 से 25 फीसदी तक शराब महंगी (Liquor Price Hike) हो गई है. उत्पाद विभाग ने शराब पर 10 फीसदी विशेष कर लगाया है. वहीं वाणिज्यकर विभाग ने वैट की दर में इजाफा करते हुए 50 से 75 फीसदी कर दिया है. इसको लेकर उत्पाद आयुक्त विनय कुमार चौबे की ओर से सभी जिलों के उपायुक्तों को दिशा-निर्देश दिये गये हैं. इसके तहत सुबह सात से शाम सात बजे तक दुकानें खुली रहेंगी.

ई टोकन के लिए लिंक जारी  
केन्द्रीय गृह मंत्रालय के निर्देशों के तहत राज्य में कोरोना कंटेनमेंट जोन व मॉल में शराब की बिक्री पर रोक जारी रहेगी. उत्पाद विभाग ने सभी लाइसेंसधारियों को निर्देश दिया है कि वे दुकानों पर प्रतिदिन सेनिटाइजेशन कराएंगे. दुकान के बाहर व भीतर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन का ध्यान रखा जाएगा. ई पेमेंट का भी प्रावधान करने को कहा गया है. दुकानों पर जल्द से जल्द सीसीटीवी कैमरा लगाकर उसका लिंक विभाग को शेयर करने को भी कहा गया है, ताकि गड़बड़ी की कोई गुंजाइश न रहे. ई-टोकन के लिए लोग https://jhexcisetoken.nic.in इस लिंक का इस्तेमाल करें.

ये भी पढ़ें

देवघर सेंट्रल जेल से नये कैदियों को अस्थाई जेल में किया जाएगा शिफ्ट, ये है वजह

 

 
First published: May 21, 2020, 4:13 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading