रांची के हिंदपीढ़ी में रहने वाले शख्स ने बनवाया ई-पास, खुलासे पर प्रशासन बोला- 'छोटी सी भूल'
Ranchi News in Hindi

रांची के हिंदपीढ़ी में रहने वाले शख्स ने बनवाया ई-पास, खुलासे पर प्रशासन बोला- 'छोटी सी भूल'
लॉकडाउन में जरूरीबस बाहर निकलने वालों को प्रशासन ई-पास जारी करता है. (सांकेतिक तस्वीर)

रांची के हिंदपीढ़ी (Hindpiri) इलाके में रहने वाला शख्स जब लोहरदगा जाने के लिए निकला, तो चेकपोस्ट पर उसके ई पास (E-Pass) बनने का खुलासा हुआ. पुलिस ने तत्काल उसका पास रद्द कर दिया.

  • Share this:
लोहरदगा. ई-पास (E- Pass) जारी करने को लेकर लोहरदगा प्रशासन की बड़ी लापरवाही उजागर हुई. जिसके बाद प्रशासन ने आनन-फानन में जारी ई-पास को रद्द कर दिया. साथ ही इसकी सूचना संबंधित शख्स नूर मोहम्मद अंसारी को वॉट्सऐप और मोबाइल पर देते हुए जारी ई-पास का उपयोग नहीं करने का निर्देश दिया. इस मामले में लोहरदगा प्रशासन (Lohardaga Administration) ने आवेदनकर्ता के विरुद्ध कार्रवाई की तैयारी की है.

तथ्य छिपाकर बनवा लिया ई-पास 

रांची के कोरोना हॉटस्पॉट हिंदपीढ़ी से लोहरदगा जाने के लिए नूर मोहम्मद अंसारी ने ई-पास के लिए आवेदन दिया था. आवेदक ने ई-पास के लिए भरे जाने वाले फार्म के सभी कॉलम में पूरी जानकारी ना देकर, कुछ तथ्यों को छुपा लिया. आधी-अधूरी जानकारी पर जिला प्रशासन की ओर से उसे अंतर जिला ई-पास जारी कर दिया गया. लेकिन इस लापरवाही के उजागर होने के बाद 9 मई को प्रभारी पदाधिकारी सह कार्यपालक दंडाधिकारी पियूषा शालीनी डोना मिंज ने पास को रद्द कर दिया. साथ ही इसकी सूचना आवेदनकर्ता को देते हुए जारी पास का इस्तेमाल नहीं करने का निर्देश दिया.



क्या है पूरा मामला
लोहरदगा शहर के कादिर लेन अमला टोली निवासी नूर मोहम्मद अंसारी लॉकडाउन में रांची में फंस गया है. उसने लोहरदगा लौटने के लिए जिला प्रशासन को ई-पास के ऑनलाइन आवेदन दिया था. लेकिन आवेदन में अपने बारे में पूरी जानकारी नहीं दी. अधिकृत प्रभारी पदाधिकारी सह कार्यपालक दंडाधिकारी पियूषा शालीनी डोना मिंज ने उसके आवेदन पर ई-पास जारी कर दिया. नियमानुसार कोरोना हॉटस्पॉट इलाके में रहने वाले किसी भी व्यक्ति को ई-पास जारी नहीं किया जा सकता है. इस मामले में पियूसा शालीनी डोना मिंज का कहना है कि तकनीकी गलती से ई-पास जारी हो गया था. मामले में सुधार कर लिया गया है. यह कोई बड़ा मामला नहीं है.

हिंदपीढ़ी से निकलने वक्त सामने आया मामला 

बीते शनिवार को यह मामला तब रांची प्रशासन के सामने आया, जब नूर मोहम्मद हिंदपीढ़ी से लोहरदगा जाने के लिए निकला. लेकिन उसे हिंदपीढ़ी में बने चेकपोस्ट पर रोक दिया गया. जांच-पड़ताल के बाद उसके ई-पास को तत्काल रद्द कर दिया गया. रांची जिला परिवहन पदाधिकारी संजीव कुमार ने बताया कि ई पास में साफ शब्दों में लिखा हुआ रहता है कि यह कंटेनमेंट जोन के लिए प्रभावी नहीं होगा.

रिपोर्ट- अदिति सिन्हा, ओमप्रकाश

ये भी पढ़ें- Jharkhand Covid-19 Update: इन जिलों में मिले 4 नये केस, कुल 160 मरीजों में से आधे हुए ठीक
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज