मधुपुर उपचुनावः 2 साल पहले जिसकी वजह से हुई हार, उसी नेता को BJP बनाएगी उम्मीदवार

झारखंड के मधुपुर विधानसभा सीट के लिए 17 अप्रैल को है उपचुनाव. (File Pic)

झारखंड के मधुपुर विधानसभा सीट के लिए 17 अप्रैल को है उपचुनाव. (File Pic)

Madhupur By-Election: झारखंड की मधुपुर विधानसभा सीट पर 17 अप्रैल को उपचुनाव है. JMM ने हफीजुल अंसारी को उम्मीदवार बनाया है. BJP से आजसू नेता गंगा नारायण सिंह के नाम की चर्चा. गंगा नारायण की वजह से ही 2019 के चुनाव में BJP उम्मीदवार को मिली थी शिकस्त.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 21, 2021, 8:42 AM IST
  • Share this:
रांची. झारखंड में मधुपुर विधानसभा सीट के लिए 17 अप्रैल को उपचुनाव का मतदान होना है. प्रदेश में सत्तारूढ़ झामुमो और मुख्य विपक्षी दल भाजपा, दोनों के बीच उपचुनाव को जीतने की जंग जारी है. झामुमो ने मधुपुर उपचुनाव में जहां हफीजुल अंसारी को अपना उम्मीदवार बनाया है, वहीं बीजेपी प्रत्याशी तय करने को लेकर अंदरूनी संघर्ष से जूझ रही है. इस बीच खबर है कि भाजपा ने उपचुनाव के जंग में आजसू नेता गंगा नारायण सिंह को उतारने की योजना बनाई है. गंगा नारायण सिंह अभी सुदेश महतो की पार्टी आजसू के केंद्रीय सचिव हैं. उन्हें बीजेपी में शामिल कराने के बाद उपचुनाव के मैदान में उतारने की योजना है.

गंगा नारायण सिंह के बीजेपी में शामिल होने और मधुपुर सीट से उपचुनाव लड़ने के पीछे एक रोचक तथ्य गौर करने लायक है. रांची से प्रकाशित हिंदी अखबार हिंदुस्तान की रिपोर्ट के मुताबिक, साल 2019 में राज्य में हुए विधानसभा चुनावों में गंगा नारायण सिंह की वजह से ही बीजेपी को मधुपुर सीट पर करारी शिकस्त झेलनी पड़ी थी. गंगा नारायण ने 45000 से अधिक वोट हासिल किए थे, जिसकी वजह से बीजेपी प्रत्याशी राज पलिवार को हार का सामना करना पड़ा था. यहां से झामुमो के हाजी हुसैन अंसारी को जीत हासिल हुई थी. अब इस सीट पर हो रहे उपचुनाव में हाजी के बेटे हफीजुल अंसारी मैदान में हैं, उनके सामने भाजपा गंगा नारायण को उतारने का विचार कर रही है.

उपचुनाव के मैदान में गंगा नारायण को उम्मीदवार बनाने का बीजेपी का दांव भले रणनीतिक दृष्टि से महत्वपूर्ण हो, लेकिन इससे पार्टी की अंदरूनी खींचातानी बढ़ गई है. दरअसल, प्रदेश के पूर्व मंत्री और मधुपुर से चुनाव लड़ चुके राज पलिवार उपचुनाव में भी उतरने की योजना बना रहे थे. लेकिन ऐन मौके पर गंगा नारायण सिंह के नाम की चर्चा ने खुंदक बढ़ा दी है. राज पलिवार आरएसएस की पृष्ठभूमि से हैं और पुराने भाजपाई भी हैं. ऐसे में उनकी जगह गंगा नारायण को उम्मीदवार बनाए जाने से पार्टी की अंदरूनी लड़ाई बाहर आ गई है. पलिवार रांची से लेकर दिल्ली तक टिकट के लिए जोर लगाए हुए हैं.

सियासी जानकारों के मुताबिक, बीजेपी के लिए गंगा नारायण सिंह को चुनाव लड़ने से रोकना मुश्किल है. इसलिए पार्टी ने उन्हें अपने पाले में कर उपचुनाव के मैदान में उतारने की योजना बनाई है. इसके लिए जरूरी है कि राज पलिवार को संतुष्ट कराया जाए, जो पार्टी के लिए टेढ़ी खीर साबित हो रहा है. यही वजह है कि अब तक बीजेपी की ओर से मधुपुर सीट के लिए प्रत्याशी के नाम का ऐलान नहीं किया जा सका है. शनिवार को इसके लिए पार्टी की चुनाव अभियान समिति की बैठक हुई, जिसमें तीन वरिष्ठ नेताओं को इसकी जिम्मेदारी दी गई है. ये तीनों नेता उपचुनाव के लिए नामों का पैनल बनाएंगे, जिसमें से किसी एक पर केंद्रीय नेतृत्व मुहर लगाएगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज