• Home
  • »
  • News
  • »
  • jharkhand
  • »
  • RANCHI MAHARSHI SEVA SANSTHAN CREATES AWARENESS ABOUT CORONA IN RANCHI

रांची: चित्रकारी से कोरोना को हराने की कोशिश, लॉकडाउन का पालन करने की अपील

चित्रकारी के जरिए सभी लोगों को वैक्सीनेशन के महत्व को भी समझाया गया

महर्षि सेवा संस्थान के अध्यक्ष जितेंद्र ने बताया कि कोरोना ने आज विकराल रूप धारण कर लिया है. लिहाजा चित्रकारी के माध्यम से उसकी भयावहता को दर्शाया गया है. ताकि लोग वायरस को गंभीरता से लें.

  • Share this:
रांची. राज्यभर में कोरोना को लेकर तरह तरह के अभियान चलाए जा रहे हैं. ग्रामीण इलाकों में जहां लोगों को कोरोना से बचाव और वैक्सीनेशन की महत्व को बताया जा रहा है. वहीं शहरी इलाकों में भी जागरूकता को लेकर कोई कोर कसर नहीं छोड़ा जा रहा है. इसमें कुछ सामाजिक संस्थान भी बढ़ चढ़कर सामने आ रहे हैं. राजधानी रांची में रविवार को ऐसा ही एक ऐसा ही अनूठा नजारा देखने को मिला. महर्षि सेवा संस्थान की ओर से रांची के मुख्य चौक अल्बर्ट एक्का चौक पर कोरोना वायरस की एक काफी बड़ी और डरावनी तस्वीर उकेरी गई. चित्रकारी के माध्यम से आम लोगों से स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के सख्त पालन की अपील की गई. साथ ही संक्रमण से बचने के लिए लोगों को घरों में ही रहने की सलाह दी गई.

महर्षि सेवा संस्थान के अध्यक्ष जितेंद्र ने बताया कि कोरोना ने आज विकराल रूप धारण कर लिया है. लिहाजा चित्रकारी के माध्यम से उसकी भयावहता को दर्शाया गया है. ताकि जो लोग वायरस को गंभीरता से नहीं लेते हैं. वे कम से कम इन तस्वीरों को देखकर थोड़ा बहुत सबक ले सकते हैं. उन्होंने कहा कि लोग अपने घरों में ही रहकर खुद की और दूसरों की जिंदगी की रक्षा कर सकते हैं.

चित्रकारी के जरिए सभी लोगों को वैक्सीनेशन के महत्व को भी समझाया गया और बताया गया कि वैक्सीनेशन के जरिए ही आप कोरोनावायरस को खत्म कर खुद स्वस्थ रह सकते हैं. संस्था ने आने वाले दिनों में रांची में कई जगहों पर जागरूकता कार्यक्रम चलाने और इसी तरह चित्रकारी के माध्यम से संदेश देने की योजना बनाई है. रांची के मोरहाबादी, कचहरी, बिरसा चौक और बूटी मोड़ समेत कई जगहों पर ऐसे ही जागरूकता कार्यक्रम चलाए जाएंगे. सबसे अच्छी बात यह यही कि आज स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के दौरान जितने भी लोग अल्बर्ट एक्का चौक के रास्ते से होकर गुजरे. उन तमाम लोगों की नजरें कोरोना की भयावहता दर्शाती इस चित्रकारी पर पड़ी.