Home /News /jharkhand /

झारखंड में 97% मनरेगा मजदूरों को नहीं मिल पाता 100 दिन का काम, ग्रामीण विकास विभाग ने दी चेतावनी

झारखंड में 97% मनरेगा मजदूरों को नहीं मिल पाता 100 दिन का काम, ग्रामीण विकास विभाग ने दी चेतावनी

मनरेगा के तहत 100 दिन का काम करने वाले मजदूरों की संख्या महज 2.4 प्रतिशत है.

मनरेगा के तहत 100 दिन का काम करने वाले मजदूरों की संख्या महज 2.4 प्रतिशत है.

MGNREGA Scheme: झारखंड (Jharkhand) में मनरेगा योजना (MGNREGA Scheme) पूरी तरह सफल नहीं हो पाई है. हाल ही में जारी हुए आंकड़ों के मुताबिक,चालू वित्तीय वर्ष में मनरेगा के तहत 100 दिन का काम करने वाले मजदूरों की संख्या महज 2.4 प्रतिशत है. केंद्रीय ग्रामीण विकास विभाग ने पत्र लिख कर इस पर चिंता जताई है. विभाग ने 80 प्रतिशत तक का लक्ष्य हासिल नहीं करने पर राशि रोकने तक की चेतावनी दी है. राज्य के 24 जिलों में से गिरिडीह जिला सबसे निचले पायदान पर है. गिरिडीह जिले में 100 दिन काम पाने वाले जॉब कार्डधारियों का प्रतिशत महज 0.9 है .

अधिक पढ़ें ...

रांची. झारखंड (Jharkhand) में मनरेगा योजना (MGNREGA Scheme) पूरी तरह सफल नहीं हो पाई है. हाल ही में जारी हुए आंकड़े बताते हैं कि राज्य में मनरेगा फेल रहा है. इन आंकड़ों के मुताबिक,चालू वित्तीय वर्ष में मनरेगा के तहत 100 दिन का काम करने वाले मजदूरों की संख्या महज 2.4 प्रतिशत है. अगर झारखंड में कुल जॉब कार्डधारी के आंकड़े पर गौर करें तो ये 45 लाख 80 हजार 239 का है. मनरेगा के तहत सरकार ने सभी जॉब कार्डधारी को 100 दिन का काम मुहैया कराने का लक्ष्य रखा है. अब ऐसे में 1 अप्रैल 2021 से 14 जनवरी 2022 तक की बात करें तो मनरेगा के तहत काम पाने वालों की संख्या 54 हजार 41 है.

साल 2021 में ग्रामीण विकास विभाग के द्वारा बिरसा हरित ग्राम योजना, जल समृद्धि योजना और पोटो हो योजना की शुरुआत की गई थी. इस योजना का संचालन मनरेगा के तहत ही किया जाना था. इसके बावजूद ये आंकड़ा चौकाने वाला है. झारखंड में मनरेगा के तहत मजदूरी के इस आंकड़े पर ग्रामीण विकास विभाग ने चिंता जताई है.

विभाग ने जॉब कार्डधारियों को 80 प्रतिशत का लक्ष्य तक काम आवंटन नहीं होने पर राशि रोकने तक की चेतावनी दी है. हैरान करने वाली बात ये है कि राज्य के 24 जिलों में से गिरिडीह जिला सबसे निचले पायदान पर है. गिरिडीह जिले में 100 दिन काम पाने वाले जॉब कार्डधारियों का प्रतिशत महज 0.9 है . जबकि रामगढ़ 100 दिन का सबसे ज्यादा काम आवंटित करने में पहले पायदान पर है. लेकिन हैरान करने वाली बात ये है कि इसका प्रतिशत भी मात्र 7.1 है.

चालू वित्तीय वर्ष में 100 दिन का काम देने वाले जिलों का हाल

  • खूंटी जिला – 5.1 प्रतिशत
  • लोहरदगा – 4.5 प्रतिशत
  • वेस्ट सिंहभूम – 4.5 प्रतिशत
  • गुमला – 4.4 प्रतिशत
  • सिमडेगा – 4.3 प्रतिशत
  • दुमका – 3.3 प्रतिशत
  • रांची – 2.9 प्रतिशत
  • गोड्डा – 2.7 प्रतिशत
  • पाकुड़ – 2.5 प्रतिशत
  • ईस्ट सिंहभूम – 2.5 प्रतिशत
  • जामताड़ा -2.4 प्रतिशत
  • बोकारो – 2.3 प्रतिशत
  • सरायकेला खरसांवा – 2.3 प्रतिशत
  • चतरा – 2.3 प्रतिशत
  • हजारीबाग -2.1प्रतिशत
  • साहेबगंज – 1.9 प्रतिशत
  • गढ़वा – 1.6 प्रतिशत
  • लातेहार – 1.5 प्रतिशत
  • कोडरमा – 1.5 प्रतिशत
  • देवघर – 1.4 प्रतिशत
  • पलामू – 1.3 प्रतिशत
  • धनबाद – 1.0 प्रतिशत

Tags: CM Hemant Soren, Jharkhand news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर