vidhan sabha election 2017

मिशन 2019 : फुल टाइम व्यस्त हैं भाजपा कार्यकर्ता

Rajesh Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: December 8, 2017, 11:18 AM IST
मिशन 2019 : फुल टाइम व्यस्त हैं भाजपा कार्यकर्ता
भाजपा के कार्यकर्ताओं पर केंद्र व प्रदेश की यूनिट को पूरा भरोसा
Rajesh Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: December 8, 2017, 11:18 AM IST
झारखंड में सत्तारुढ़ दल भाजपा का कार्यक्रम कहीं न कहीं चलता रहता है. प्रदेश कार्यसमिति बैठक से लेकर मंडल यानी प्रखंड स्तर पर कार्यसमिति बैठक करनी पड़ती है. पार्टी में 7 मोर्चा और 9 प्रकोष्ठ भी हैं. सभी को अपना-अपना दायित्व दिया हुआ है. भाजपा झारखंड राज्य की सबसे बड़ी पार्टी है. पार्टी के अनुसार उसके लगभग 45 लाख सदस्य हैं. पार्टी के पदाधिकारियों को सांस लेने तक की फुर्सत नहीं है. वैसे तो वे अपनी परेशानी नहीं बताते, लेकिन उनकी व्यस्तता से इसका अंदाजा लगाया जा सकता है.

पार्टी के नेता और कार्यकर्ता किसी भी कार्यक्रम के लिए अपने संसाधन पर अधिक निर्भर करते हैं. पार्टी प्रचार प्रसार पर अधिक ध्यान देती है. ऐसे में खर्च का अंदाजा सहज लगाया जा सकता है. मंडल स्तर के कार्यक्रम में कम से कम 25 हजार रूपए खर्च होते हैं. मोर्चा की कार्यसमिति के आयोजन में लगभग तीन से पांच लाख रूपए का खर्च होता है. मेन भाजपा कार्यसमिति में लगभग दस लाख रूपये का खर्च आता है. ये सारे खर्चे अपने स्तर से संबंधित अध्यक्ष या संयोजक को करना पड़ता है. इसमें पार्टी के विधायक और सांसद थोड़ा बहुत सपोर्ट कर दें तो गनिमत है.

झारखंड में भाजयुमो के अध्यक्ष अमित सिंह ने कहा कि ये हमलोगों का सौभाग्य है कि हमलोगों को इतना काम करने का अवसर मिल रहा है. प्रदेश और केंद्र की पूरी यूनिट हमलोगों पर भरोसा कर रही है. इसीलिए हमलोगों को काम मिल रहा है. ये काम कर हमलोगों को काफी कुछ सिखने को मिल रहा है.

वहीं भाजपा विधायक सह महामंत्री अनंत ओझा ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी कार्यकर्ताओं के ताकत पर चलती है. कार्यकर्ता ही पार्टी का प्राण हैं. पंचायत से लेकर पार्लियामेंट तक हर कार्यकर्ता के मन में संकल्प है. पार्टी के कार्यकर्ता तन, मन और धन से पार्टी को नई ऊंचाइयों पर ले जाने में लगे हुए हैं.

मिशन 2019 में लगी भाजपा के लिए कई कार्यक्रम चल रहे हैं और पार्टी इन्हें फुल टाइम इंगेजमेंट दिए हुई है. लिहाजा, कार्यकर्ताओं को अपना परफार्मेंस भी देना पड़ता है. इसलिए सभी लगे रहते हैं.

 
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर