लाइव टीवी

मेरे लिए बीजेपी ज्वाइन करना घर वापसी जैसा- कुणाल षाडंगी

News18 Jharkhand
Updated: October 23, 2019, 2:36 PM IST
मेरे लिए बीजेपी ज्वाइन करना घर वापसी जैसा- कुणाल षाडंगी
कुणाल षाडंगी ने कहा कि राष्ट्रवाद और विकास की विचारधारा से प्रभावित होकर बीजेपी में शामिल हुआ हूं. (फाइल फोटो)

कुणाल षाडंगी (Kunal Shadangi) ने विदेश की नौकरी छोड़कर राजनीति (Politics) में कदम रखा और 2014 में जेएमएम (JMM) के टिकट पर बहरागोड़ा से विधायक (MLA) निर्वाचित हुए 

  • Share this:
रांची. जेएमएम (JMM) के तेज तर्रार विधायक रहे कुणाल षाडंगी (Kunal Shadangi) ने बीजेपी (BJP) का दामन थाम लिया है. ये जेएमएम के लिए विधानसभा चुनाव (Jharkhand Assembly Election) से पहले तगड़ा झटका है. बीजेपी में शामिल होने के बाद कुणाल षाडंगी ने कहा कि मेरे लिए बीजेपी ज्वाइन करना घर वापसी जैसा है. मेरे पिता को बीजेपी ने ही पहचान दिलाई थी. लेकिन मैं हेमंत सोरेन (Hemant Soren) का आजीवन आभारी रहूंगा. उन्होंने पहली बार मुझे विधायक बनने का मौका दिया. बतौर कुणाल राष्ट्रवाद और विकास की विचारधारा से प्रभावित होकर बीजेपी में शामिल हुआ हूं. मैंने हमेशा विधानसभा में सकारात्मक भूमिका निभाई है.

ऐसा रहा है सियासी जीवन

2014 में जेएमएम की टिकट पर पहली बार विधानसभा चुनाव लड़े और बहरागोड़ा सीट से जीत हासिल की. इस सीट पर कभी उनके पिता और पूर्व मंत्री दिनेश षाडंगी भाजपा का प्रतिनिधित्व किया करते थे. कुणाल षाडंगी एक टेक्नोक्रैट यंग पॉलिटिशियन कहे जाते हैं. वे यूएस के आईवीएलपी कार्यक्रम में शिरकत करने वाले झारखंड के पहले विधायक रहे हैं. इसके अलावा गोवा, उदयपुर, वाईजैक समेत विभिन्न शहरों में आयोजित कार्यक्रमों में झारखंड विधानसभा का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं. क्षेत्र की जनता के बीच काफी लोकप्रिय और सहजता से उपलब्ध होने वाले विधायक हैं.

कुणाल षाडंगी अपने रात्रि प्रवास कार्यक्रम के तहत क्षेत्र की जनता के घर ठहरते हैं और चौपाल लगाकर समस्याएं सुनते हैं. बाद में इनका निदान भी करते हैं. कुणाल यूनिसेफ के साथ मिलकर बहरागोड़ा में चाईल्ड मैरेज फ्री और यूसेड के साथ मिलकर टीबी फ्री अभियान छेड़ रखा है.

विदेश की नौकरी छोड़कर सियासत में कदम रखा 

कुणाल षाडंगी की प्राथमिक शिक्षा बहरागोड़ा में हुई. एनआईटी, आदित्यपुर से उन्होंने स्नातक किया. इसके बाद यूनाईटेड किंगडम के लैंचेस्टर यूनिवर्सिटी से एमबीए किया. विदेश में अच्छी खासी नौकरी छोड़कर घर लौट आए और राजनीति में कदम रखा. कुणाल षाडंगी के पिता दिनेश षाडंगी झारखंड की राजनीति के जाने माने चेहरे रहे हैं. वे पूर्व भाजपा नेता और स्वास्थ्य मंत्री भी रहे हैं. कई बार बहरागोड़ा विधानसभा से विधायक रहे.

रिपोर्ट- दिवाकर तिवारी व अन्नी अमृता
Loading...

ये भी पढ़ें- बीजेपी ज्वाइन करने के बाद बोले पूर्व मंत्री भानू प्रताप- देश की सुरक्षा सबसे ऊपर

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 2:34 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...