अपना शहर चुनें

States

झारखंड में झूम के आया Monsoon, किसानों के चेहरे खिले, बंपर फसल की उम्मीद

झारखंड में मॉनसून के समय पर आने से किसानों के चेहरे खिल उठे हैं. (फाइल फोटो)
झारखंड में मॉनसून के समय पर आने से किसानों के चेहरे खिल उठे हैं. (फाइल फोटो)

ओडिशा की ओर से मॉनसून (Monsoon) ने झारखंड में प्रवेश किया है. आने वाले 3 से 4 दिनों तक पूरे झारखंड के ऊपर मानसूनी बादल छा जाएंगे और राज्य में अच्छी बारिश (Rain) होगी.

  • Share this:
रांची. इंतजार खत्म हुआ, झारखंड में मॉनसून (Monsoon) ने दस्तक दे दी है. अच्छी प्री मॉनसून बारिश के बाद समय पर मॉनसून के प्रवेश से जहां किसानों (Farmers) के चेहरे पर मुस्कान है, वहीं कृषि विशेषज्ञों को भी इस बार राज्य में बंपर फसल होने की उम्मीद है. ओडिशा की ओर से दक्षिणी-पूर्वी, उत्तर-पूर्वी और मध्य जिलों से मॉनसून ने झारखंड में प्रवेश किया है. आने वाले 3 से 4 दिनों तक पूरे झारखंड के ऊपर मानसूनी बादल छा जाएंगे और राज्य में अच्छी बारिश (Rain) होगी. मौसम वैज्ञानिक और रांची मौसम केंद्र के निदेशक डॉ. एसडी कोटल के अनुसार झारखंड में इस बार सामान्य बारिश यानि 96 से 104 प्रतिशत तक बारिश होने की संभावना है.

खेती के लिए इस बार अनुकूल रहेगा मॉनसून

झारखण्ड में 38 लाख हेक्टेयर कृषि योग्य भूमि में से 28 लाख हेक्टेयर में खरीफ की खेती की जाती है. जिसमें से अकेले धान की फसल 18 लाख हेक्टेयर में लगायी जाती है. बीएयू के कृषि मौसम वैज्ञानिक डॉ. ए बदूद इस बार के मॉनसून और प्री मॉनसून की स्थिति को कृषि के लिए बेहतरीन मानते हैं. उन्होंने बताया कि इस बार समय से मॉनसून आने और उससे पहले हुई प्री मॉनसून बारिश के चलते खेत पहले से ही तैयार हैं. अब जब मॉनसून की बारिश होगी, तो किसानों को खेत को तैयारी करने के लिए इंतजार नहीं करना होगा. समय से बोआई होगी, तो पैदावार भी बढ़ेगा.



 
मॉनसून से पहले की अच्छी बारिश से खेतों में आयी नमी और अब समय पर मॉनसून के आगमन ने राज्य के किसानों के चेहरों पर खुशियां ला दी हैं. किसान खेतों को तैयार करने में लग गए हैं. किसानों को उम्मीद है कि इस वर्ष मॉनसून धोखा नहीं देगा. अच्छी बारिश से अच्छा पैदावार होगा. रांची के कांके के रहने वाले किसान मनोज कुमार प्रजापति कहते हैं कि इस बार मॉनसून से उन्हें बहुत उम्मीद है, क्योंकि इस बार न सिर्फ मॉनसून से पहले अच्छी बारिश हुई है बल्कि मॉनसून समय पर भी आया है.

झारखंड में पिछले पांच वर्ष में पहली बार समय से पहले मॉनसून पहुंचा है. राज्य में जुलाई और अगस्त में ज्यादा बारिश की उम्मीद है. झारखंड भले ही खनिज संपदा से धनी राज्य हो, पर यहां की बड़ी आबादी कृषि पर आश्रित है. वहीं सिंचाई की व्यवस्था नहीं होने के कारण खेती पूरी तरह से वर्षा जल पर निर्भर है.

ये भी पढ़ें- सरकारी महकमे ने नहीं सुनी बात, तो खुद ही सड़क बनाने निकल पड़े ग्रामीण
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज