झारखंड विधानसभा के मॉनसून सत्र में पारित हुए नौ विधेयक

Rajesh Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: August 12, 2017, 11:55 PM IST
झारखंड विधानसभा के मॉनसून सत्र में पारित हुए नौ विधेयक
झारखंड विधानसभा का मॉनसून सत्र शनिवार को संपन्न हो गया. इस सत्र में विपक्ष ने पिछले कई सत्रों की तुलना में सहयोग किया. सदन में तीन दिन पूरा काम हुआ. धर्म स्वतंत्र विधेयक सहित सत्र के दौरान कुल नौ विधेयक पारित किए गए.
Rajesh Kumar | ETV Bihar/Jharkhand
Updated: August 12, 2017, 11:55 PM IST
झारखंड विधानसभा का मॉनसून सत्र शनिवार को संपन्न हो गया. इस सत्र में विपक्ष ने पिछले कई सत्रों की तुलना में सहयोग किया. सदन में तीन दिन पूरा काम हुआ. धर्म स्वतंत्र विधेयक सहित सत्र के दौरान कुल नौ विधेयक पारित किए गए.

अनिश्चित काल के लिए स्थगित हुआ मानूसून सत्र पांच दिनों का था. इस सत्र में अंतिम तीन दिन पूरी कार्यवाही चली. सिर्फ एक बार कार्यवाही स्थगित हुई. सत्र के दौरान विनियोग विधेयक समेत कुल 9 विधेयक पेश हुए. मेडिकल प्रोटेक्शन एक्ट पास नहीं किया जा सका. उसे प्रवर समिति को भेज दिया गया. इस बिल पर पक्ष और विपक्ष दोनों को आपत्ति थी.

सत्र के अंतिम दिन सरकार ने महत्वपूर्ण धर्म स्वतंत्र विधेयक और भूमि अर्जन एवं पुनर्वासन विधेयक पेश कर पारित कराया. हालांकि इन दोनों विधेयकों पर विपक्ष को एतराज था. वहीं सत्ता पक्ष के अलावा निर्दलीय इसे सही ठहरा रहे थे जबकि विपक्ष इसकी आलोचना कर रहा था.

इस सत्र में विपक्ष का एप्रोच थोड़ा बदला रहा. सदन को बाधित करने की मंशा नहीं दिखी. वहीं स्पीकर ने सदन में पक्ष और विपक्ष को आवश्यक महत्व दिया. सदन की कार्यवाही के दौरान कई बार माहौल हंगामेदार तो कई बार बहुत खुशनुमा रहा. मुख्यमंत्री ने भी कई सवालों के जवाब उत्साहित होकर दिए.

इस सत्र में कुल 467 प्रश्न स्वीकृत किए गए थे जिनमें 94 अल्पसूचित, 269 तारांकित एवं 114 अतारांकित प्रश्न थे. संचालन के दौरान स्पीकर ने मंत्री सीपी सिंह को भी टोकाटोकी पर फटकार लगाई. ‌कांग्रेस के बादल पत्रलेख ने कहा कि उनकी पार्टी के विधायक सदन चलाने के पक्ष में थे. इस सत्र में विधायकों की मौजूदगी भी अच्छी रही. सत्र मोटे तौर पर अच्छा रहा है. सीएनटी व एसपीटी एक्ट संशोधन विधेयक को खत्म करने की भी घोषणा इसी सत्र में हुई.
First published: August 12, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर