झारखंड सचिवालय में हड़कंप, एक हफ्ते में 100 से ज्यादा कर्मचारी हुए कोरोना संक्रमित

झारखंड मंत्रालय में कोरोना संक्रमण फैलने से हड़कंप मच गया. (फाइल फोटो)

झारखंड मंत्रालय में कोरोना संक्रमण फैलने से हड़कंप मच गया. (फाइल फोटो)

कोरोना ने झारखंड मंत्रालय (Jharkhand Mantralay) में जबरदस्त दस्तक दी है. एक सप्ताह के अंदर 100 से अधिक सरकारी बाबू कोरोना संक्रमित हो चुके हैं, जबकि इतनी ही संख्या में कर्मचारियों की कोरोना रिपोर्ट आना अभी बाकी है.

  • Share this:
रांची. झारखंड में कोरोना संक्रमण (Corona) का दायरा समय के साथ बढ़ता ही जा रहा है. हालात कुछ ऐसे है कि कोरोना संक्रमितों की संख्या अब प्रति दिन 18 सौ के पार तक पहुंच गया है. परेशान करने वाली बात ये है कि कोरोना के संक्रमण ने झारखंड मंत्रालय (Jharkhand Mantralay) में जबरदस्त दस्तक दी है. एक सप्ताह के अंदर की बात करे तो झारखंड सचिवालय में काम करने वाले करीब 100 से अधिक सरकारी बाबू और कर्मचारी अब तक कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं, जबकि इतनी ही संख्या में लोगों का कोरोना रिपोर्ट आना अभी बाकी है. अभी कुछ दिन पहले ही कोरोना के संक्रमण से एक अधिकारी की मौत भी हो गई.

सचिवालय में कोरोना ब्लास्ट होते ही यहां अलग - अलग विभागों में कार्यरत कर्मचारियों में ख़ौफ़ का माहौल है. लगातार विभागों में कोरोना संक्रमितों के बढ़ते आंकड़ों के बाद झारखंड सचिवालय सेवा संघ ने मुख्य सचिव के नाम ज्ञापन सौंपते हुए कर्मियों की सुरक्षा की मांग की है. संघ ने राज्य सरकार से कार्य स्थल पर लगातार सेनिटाइजेशन की व्यवस्था करने, साप्ताहिक रोस्टर के तहत काम लेने, सचिवालयकर्मियों के लिये टीकाकरण की व्यवस्था करने, कोरोना से संक्रमित कर्मियों के लिये बेड की व्यवस्था करने के साथ - साथ यदि संभव हो तो 10 से 15 दिनों के लिये लॉकडाउन घोषित करने की मांग रखी है.

दरअसल कोरोना संक्रमण के पहले साल में इससे बचाव के लिये राज्य सरकार ने रोस्टर की व्यवस्था की थी. सरकार के द्वारा ऐसा करने से विभागीय कार्य पर इसका जरूर असर पड़ा था, पर बहुत हद तक कोरोना का चेन तोड़ने में रोस्टर का फार्मूला काम आया था. अब देखना है कि सरकार अपने कर्मचारियों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिये क्या कुछ ठोस कदम उठाती है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज