Home /News /jharkhand /

Naxali Bandh: नक्‍सली प्रशांत बोस की गिरफ्तारी के विरोध में माओवादियों का 3 दिवसीय बंद आज से, पूरे झारखंड में अलर्ट

Naxali Bandh: नक्‍सली प्रशांत बोस की गिरफ्तारी के विरोध में माओवादियों का 3 दिवसीय बंद आज से, पूरे झारखंड में अलर्ट

Naxali Prashant Bose News: 1 करोड़ के इनामी नक्‍सली प्रशांत बोस की गिरफ्तारी के विरोध में नक्‍सलियों ने 3 दिन के बंद का आह्वान किया है. (फाइल फोटो)

Naxali Prashant Bose News: 1 करोड़ के इनामी नक्‍सली प्रशांत बोस की गिरफ्तारी के विरोध में नक्‍सलियों ने 3 दिन के बंद का आह्वान किया है. (फाइल फोटो)

Alert in Jharkhand: 1 करोड़ के इनामी नक्‍सली प्रशांत बोस और उसकी पत्‍नी शीला मरांडी की गिरफ्तारी के विरोध में नक्‍सलियों ने तीन दिन के बंद का ऐलान किया है. माओवादियों के रिजनल कमेटी के प्रवक्‍ता मानस की ओर से इसकी घोषणा की गई है. नक्‍सल‍ियों के बंद के ऐलान के बाद पूरे झारखंड में अलर्ट जारी कर दिया गया है.

अधिक पढ़ें ...

    रांची. कुख्‍यात नक्‍सली प्रशांत बोस और उसकी पत्‍नी शीला मरांडी की गिरफ्तारी के विरोध में नक्‍सलियों  ने 23 से 25 नवंबर तक 3 दिवसीय बंद का ऐलान किया है. इसे देखते हुए पूरे झारखंड में अलर्ट जारी किया गया है. नक्‍सलियों ने पानी, दूध, दवा दुकान, अस्‍पताल, एंबुलेंस और फायर डिपार्टमेंट को बंद से मुक्‍त रखने की बात कही है. झारखंड के अलावा बिहार, उत्‍तर प्रदेश और छत्‍तीसगढ़ में भी बंद का ऐलान किया गया है. इसकी घोषणा नक्‍सलियों के सीमांत रिजनल कमेटी के प्रवक्‍ता मानस की ओर से की गई है. बता दें कि 1 करोड़ रुपये के इनामी नक्‍सली प्रशांत बोस और उसकी पत्‍नी को गिरफ्तार करने में सुरक्षाबलों ने सफलता पाई है. इससे नक्‍सलियों में बौखलाहट है.

    जानकारी के अनुसार, नक्‍सलियों ने तीन दिवसीय बंदी के दौरान पानी, दूध, दवा दुकान, अस्पताल, एंबुलेंस और अग्निशमन सेवा को मुक्त रखने की बात संगठन की ओर से कही गई है. नक्सलियों के बंद को देखते हुए पुलिस मुख्यालय ने पूरे राज्य में अलर्ट जारी किया है. नक्सल प्रभावित जिलों को विशेष तौर पर चौकस रहने को कहा गया है. सभी जिलों को सीमावर्ती क्षेत्रों में सघन वाहन जांच करने का भी निर्देश दिया गया है. बता दें कि इससे पूर्व माओवादी संगठन ने 20 नवंबर को भारत बंद बुलाया था. इस दौरान चाईबासा और लातेहार में रेलवे ट्रैक को क्षतिग्रस्त किया था.

    झारखंड में खुल सकते हैं पहली से पांचवीं कक्षा तक के स्‍कूल

    बता दें कि नक्सलियों के शीर्ष नेता प्रशांत बोस उर्फ किशन दा को पहले रिमांड पर भेजा गया था. इसके बाद सरायकेला पुलिस द्वारा उसे मेडिकल जांच के लिए सरायकेला सदर अस्पताल लाया गया, जहां से कोर्ट में पेश करने के बाद सरायकेला जेल भेज दिया गया. जानकारी के अनुसार, प्रशांत बोस को पेशाब में जलन की शिकायत थी. इसके बाद उसका यूरिन टेस्ट कराया गया. इस दौरान सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे.

    इससे पहले नक्सली संगठन भाकपा माओवादी के थिंक टैंक प्रशांत बोस, पत्नी शीला मरांडी सहित सभी गिरफ्तार नक्सलियों को पुलिस ने 150 घंटे की रिमांड पर लिया था. कांड्रा थाना की पुलिस ने न्यायालय में रिमांड के लिए अर्जी दायर की थी. इसके बाद इन्हें 150 घंटे की रिमांड पर लिया गया था. इस दौरान इन सभी से नक्सली गतिविधियों की जानकारी ली गई. रिमांड अवधि खत्म होने के बाद पुलिस इन्हें सदर अस्पताल लाई और स्वास्थ्य जांच करा रही है. सरायकेला पुलिस ने प्रशांत बोस, पत्नी शीला मरांडी, वीरेंद्र हांसदा, राजू टुडू, कृष्णा बाहंदा, गुरुचरण बोदरा को पिछले दिनों गिरफ्तार किया था.

    Tags: Jharkhand news, Naxal Movement

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर