2 दिन की बारिश भी नहीं झेल पाया झारखंड विधानसभा का नया भवन, फर्स्ट फ्लोर की फॉल्स सीलिंग गिरी

झारखंड विधानसभा के नए भवन में कई जगह सीपेज की शिकायत.

झारखंड विधानसभा के नए भवन में कई जगह सीपेज की शिकायत.

चक्रवातीय तूफान यास (YAAS) का असर पुल के बाद अब झारखंड विधानसभा (Jharkhand Assembly) भवन पर भी दिख रहा है. भवन दो दिन की बारिश भी ठीक से झेल नहीं पाया.

  • Share this:

रांची. चक्रवाती तूफान यास (YAAS) का असर पुल के बाद अब झारखंड विधानसभा (Jharkhand Assembly) भवन पर भी दिख रहा है. भवन दो दिन की बारिश भी ठीक से झेल नहीं पाया. भवन के फर्स्ट फ्लोर के पश्चिमी हिस्से के कॉरिडोर की सीलिंग गुरुवार की रात गिर गयी. सामान्य दिनों की तरह कामकाज चलता तो बड़ी घटना हो सकती थी. पश्चिमी हिस्से में विधानसभा सचिव के कक्ष के समीप यह घटना हुई है. विधानसभा सचिव के कार्यालय कक्ष के साथ-साथ यहां कई अधिकारियों का कक्ष है.

झारखंड में निर्माण कार्य की गुणवत्ता और सरकारी राशि के दुरुपयोग को लेकर समय-समय पर कई सवाल उठते रहे हैं. बीते दिनों रांची के तमाड़-बुंडू इलाके में कांची नदी पर करीब 10 करोड़ रुपये की लागत से बने पुल के उद्घाटन के पहले ही ढह जाने की घटना से सरकारी सिस्टम की पोल खोल कर रख दी. अब विधानसभा भवन की खबर पर अलग-अलग तरह की चर्चाएं हो रही हैं.

465 करोड़ रुपये में बना था नया भवन

विधानसभा का नया भवन 465 करोड़ की राशि में बना है. 39 एकड़ में फैले इस नये विधानसभा परिसर का उदघाटन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने किया था. नया भवन चार वर्षों में बन कर तैयार हुआ था. इसके निर्माण में गुणवत्ता को लेकर सवाल उठते रहे हैं. विधानसभा की ओर से कई बार सरकार को पत्र भेजे गये हैं. झारखंड में निर्माण कार्य की गुणवत्ता और सरकारी राशि के दुरुपयोग को लेकर समय-समय पर कई सवाल उठते रहे हैं. विधानसभा के सचिव महेंद्र प्रसाद ने भवन निर्माण विभाग को पत्र भेज कर सीलिंग की मरम्मत कराने के साथ-साथ पूरे भवन में जलजमाव व फॉल्स सीलिंग की स्थिति का जायजा लेने का आग्रह किया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज