लाइव टीवी

झारखंड में नक्सली कुंदन पाहन को NIA कोर्ट ने दी चुनाव लड़ने की अनुमति

News18 Jharkhand
Updated: November 11, 2019, 7:44 PM IST
झारखंड में नक्सली कुंदन पाहन को NIA कोर्ट ने दी चुनाव लड़ने की अनुमति
NIA के विशेष जज नवनीत कुमार की अदालत में कुंदन के आवेदन पर सुनवाई हुई.

पूर्व मंत्री रमेश सिंह मुंडा (Ramesh Singh Munda) हत्याकांड समेत 57 मामलों में कुंदन पाहन (Kundan Pahan) आरोपी है. सरकार की सरेंडर पॉलिसी के तहत उसने पुलिस के सामने आत्मसपर्पण (Surrender) किया था, जिसके बाद से वह जेल में बंद है.

  • Share this:
रांची. झारखंड में खूंटी (Khunti) समेत कई जिलों में कभी आतंक का पर्याय रहे पूर्व नक्सली कुंदन पाहन (Kundan Pahan) अब लोकतंत्र की लड़ाई में हिस्सा लेगा. कुंदन पाहन तमाड़ विधानसभा सीट (Tamar Assembly Seat) से चुनाव लड़ेगा. NIA की विशेष कोर्ट ने कुंदन पाहन को चुनाव लड़ने की अनुमति दे दी है. बता दें कि पूर्व मंत्री रमेश सिंह मुंडा (Ramesh Singh Munda) हत्याकांड समेत 57 मामलों में कुंदन पाहन आरोपी है. सरकार की सरेंडर पॉलिसी के तहत उसने पुलिस के सामने आत्मसमर्पण (Surrender) किया था, जिसके बाद से वह जेल में बंद है. कुंदन पाहन के चुनाव मैदान में उतरने से तमाड़ विधानसभा सीट पर चुनाव दिलचस्प हो गया है. पूर्व मंत्री रमेश सिंह मुंडा हत्याकांड का आरोपी पूर्व मंत्री राजा पीटर (Raja Peter) को भी कोर्ट से चुनाव लड़ने की अनुमति मिल चुकी है.

NIA कोर्ट में हुई सुनवाई

एनआइए कोर्ट के विशेष जज नवनीत कुमार की अदालत में कुंदन के आवेदन पर सुनवाई हुई. अदालत में सुनवाई के दौरान कुंदन के अधिवक्ता ने अदालत को बताया कि जो भी मामले सामने आए हैं उनमें से किसी में भी कुंदन को सजा नहीं मिली है. इतना ही नहीं कुछ मामलों में अदालत ने कुंदन को साक्ष्य के अभाव में बरी भी कर दिया है. उन्होंने कहा कि संविधान में प्रदत अधिकार के तहत जब तक किसी को किसी मामले में सजा नहीं मिल जाती है तब तक उसे चुनाव लड़ने से रोका नहीं जा सकता है.

कुंदन पाहन के अधिवक्ता ईश्वर दयाल ने अदालत को बताया कि जो भी मामले सामने आए हैं उनमें से किसी में भी कुंदन को सजा नहीं मिली है. 


15 या 19 नवंबर को करेगा नामांकन

जेल प्रशासन को आदेश दिया गया है कि कुंदन को 15 नवंबर या 19 नवंबर को पुलिस अभिरक्षा में नामांकन के लिए बुंडू एसडीओ के समक्ष नामांकन के लिए ले जाया जाए. इससे पूर्व कुंदन पाहन को अदालत ने एक अंडरटेकिंग देने को कहा कि उनके नामांकन के लिए जाते समय किसी भी प्रकार की घटना न हो. साथ ही जनता को किसी तरह की कठिनाई भी न हो.

गौरतलब है कि एक कार्यक्रम के तहत पूर्व मंत्री रमेश सिंह मुंडा की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी. रमेश सिंह मुंडा के परिजन के गुहार पर मामले की जांच एनआइए को सौंपी गई है. इसी जांच के क्रम में कुंदन पाहन और राजा पीटर के नाम इस हत्याकांड में सामने आए.(रांची से नीरज नयन चौधरी की रिपोर्ट)

ये भी पढ़ें - झारखंड में भी खटपट: सीट शेयरिंग को लेकर BJP और LJP में नहीं बनी बात!

ये भी पढ़ें - धन-बल का उपयोग करने वाले प्रत्याशियों व उनके समर्थकों पर EC की पैनी नजर...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 11, 2019, 7:37 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर