Home /News /jharkhand /

निक्की प्रधान: शिक्षक दिवस पर हॉकी स्टिक पकड़ने वाले हाथों ने गुरु के लिए बनाया ये खास डिश

निक्की प्रधान: शिक्षक दिवस पर हॉकी स्टिक पकड़ने वाले हाथों ने गुरु के लिए बनाया ये खास डिश

Teacher's Day: निक्की प्रधान की माने तो उसे ज्यादा खाना बनाना नहीं आता. क्योंकि वह अक्सर खेल के कारण घर से बाहर रहती है. बावजूद इसके शिक्षक दिवस पर निक्की ने अपने कोच के लिए पसंद का खाना बनाया.

Teacher's Day: निक्की प्रधान की माने तो उसे ज्यादा खाना बनाना नहीं आता. क्योंकि वह अक्सर खेल के कारण घर से बाहर रहती है. बावजूद इसके शिक्षक दिवस पर निक्की ने अपने कोच के लिए पसंद का खाना बनाया.

Teacher's Day: निक्की प्रधान की माने तो उसे ज्यादा खाना बनाना नहीं आता. क्योंकि वह अक्सर खेल के कारण घर से बाहर रहती है. बावजूद इसके शिक्षक दिवस पर निक्की ने अपने कोच के लिए पसंद का खाना बनाया.

रांची. शिक्षा का क्षेत्र कोई भी हो, लेकिन शिक्षा से साक्षात्कार कराने वाला गुरु ही कहलाता है. 5 सितंबर को शिक्षक दिवस पर तमाम गुरुजनों और शिक्षकों को सम्मानित किया गया. ऐसे में झारखंड के खिलाड़ियों ने अपने-अपने तरीकों से अपने कोच को आदर सहित सम्मान दिया. दो बार की ओलंपियन हॉकी स्टार निक्की प्रधान (Nikki Pradhan) ने अपने तमाम कोचेज का अनूठे तरीके से टीचर्स डे पर अभिवादन कर उनको सम्मान दिया. निक्की प्रधान ने अपने रांची स्थित रेलवे आवास पर अपने सभी गुरु को खाने पर आमंत्रित किया. खेल में व्यस्त रहने वाली निक्की ने अपने हाथों से अंडा करी और चावल बनाकर अपने तमाम कोचेज को खाने पर आमंत्रित किया था.

निक्की की माने तो उसे ज्यादा खाना बनाना नहीं आता. क्योंकि वह अक्सर खेल के कारण घर से बाहर ही रहती है. और उसका ज्यादातर समय घर के बजाय मैदान में ही गुजरता है. बावजूद इसके निक्की ने अपने कोचेज की पंसद के अनुसार खाना बनाया. चार बहनों में दूसरे नंबर की निक्की बताती हैं कि उन्हें नये नये डिसेज बनाना और सीखना बेहद पसंद है. और शायद अपने हाथों से खाना बनाकर अपने गुरु को परोसने से बड़ा सम्मान दूसरा नहीं हो सकता.

निक्की बताती हैं कि उनकी सफलता में कई कोचेज का अहम योगदान रहा है. खूंटी के हेसल गांव की रहनेवाली निक्की को पहली हॉकी स्टिक खूंटी के हॉकी कोच दशरथ महतो ने पकड़ायी थी. उसके बाद सिलेवानुस डुंगडुंग, गर्वमेंट गर्ल्स हाई स्कूल बरियातू में भी निक्की को कई कोच मिले. निक्की ने सफलता के इस मुकाम पर पहुंचाने के लिए अपने सभी कोचेज को शिक्षक दिवस पर प्रणाम कर उन्हें शुक्रिया अदा किया. निक्की की मानें तो बिना गुरु ज्ञान के सफलता की मंजिल को हासिल नहीं किया जा सकता.

दो बार ओलंपिक खेलने की वजह से कुछ दिनों पहले ही दक्षिण पूर्व रेलवे में कार्यरत निक्की का प्रमोशन ओएसडी स्पोर्ट्स ग्रेड बी ऑफिसर में किया गया है. निक्की की कुल चार बहनें और एक छोटा भाई है. चार बहनें हॉकी की नेशनल प्लेयर हैं. ऐसे में घरों में हॉकी से जुड़े खेल की चर्चा अक्सर होती रहती है. और कोचेज का भी घरों में अक्सर आना- जाना होता रहता है.

Tags: Hockey, Jharkhand news, Ranchi news, Teachers day

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर