Home /News /jharkhand /

झारखंड के इस संस्थान में बनने जा रहा खास हॉस्टल, यहां एक कमरे में साथ रह सकेंगे विवाहित जोड़े, जानें क्यों?

झारखंड के इस संस्थान में बनने जा रहा खास हॉस्टल, यहां एक कमरे में साथ रह सकेंगे विवाहित जोड़े, जानें क्यों?

एनआईटी जमशेदपुर विवाहित जोड़ों के लिए एक अलग हॉस्टल बनाने की तैयारी कर रहा है.

एनआईटी जमशेदपुर विवाहित जोड़ों के लिए एक अलग हॉस्टल बनाने की तैयारी कर रहा है.

Jharkhand News: एनआईटी जमशेदपुर जेएनयू समेत देश के अन्य प्रतिष्ठित संस्थानों की तरह विवाहित जोड़ों के लिए एक खास हॉस्टल बनाने की तैयारी कर रहा है. यह हॉस्टल अपने आप में काफी खास होगा. दरअसल इस हॉस्टल में विवाहित जोड़ों को एक कमरे में एक साथ रहने की अनुमति होगी.

अधिक पढ़ें ...

    जमशेदपुर. झारखंड के जमशेदपुर में एक खास व्यवस्था होने जा रही है. दरअसल एनआईटी जमशेदपुर जेएनयू समेत देश के अन्य प्रतिष्ठित संस्थानों की तरह विवाहित जोड़ों के लिए एक खास हॉस्टल बनाने की तैयारी कर रहा है. यह हॉस्टल अपने आप में काफी खास होगा. दरअसल इस हॉस्टल में विवाहित जोड़ों को एक कमरे में एक साथ रहने की अनुमति होगी. दरअसल शोध छात्रों को ध्यान में रखकर एनआईटी जमशेदपुर में एक ऐसा ऐसा हॉस्टल बनाया जाएगा जहां पति-पत्नी साथ रह सकेंगे. बताया जाता है कि अक्सर शोध करने वाले स्टूडेंट्स की शादी हो जाती है. ऐसे में उन्हें जिस संस्थान में साथ रहने की सुविधा नहीं होती है वह उस संस्थान को छोड़ देते हैं. इस दौरान उनका शोध कार्य भी प्रभावित होता है. यही वजह है कि इस कारण देश के अन्य बड़े शैक्षणिक संस्थानों की तरह एनआईटी में जमशेदपुर भी ऐसे हॉस्टल बनाए जाने की योजना है, जहां पत्नी-पत्नी को साथ रहने में कोई दिक्कत न हो. यही नहीं बताया जा रहा है कि हॉस्टल में पति-पत्नी के अलावा बच्चे या दूसरे अन्य करीबी सदस्यों को भी रहने का इंतजाम होगा.
    इस बारे में अधिक जानकारी देते हुए एनआईटी जमशेदपुर के निदेशक प्रो. करुणेश कुमार शुक्ल ने बताया कि वह इस संस्थान को एक ऐसे संस्थान के रूप में स्थापित करना चाहते हैं, जहां आधी रात तक भी दिन जैसी चहल-पहल हो. देश के अन्य शैक्षणिक संस्थानों में ऐसा ही नजारा होता है. इस दिशा में संस्थान की योजना बन रही है. उन्होंने बताया कि फिलहाल 1000 सीटों वाले हॉस्टल निर्माण की प्रक्रिया चल रही है.

    पति-पत्नी से संस्थान को होगी बड़ी उम्मीदें
    प्रो. करुणेश कुमार शुक्ल का कहना है कि किसी भी संस्थान की श्रेष्ठता उस संस्थान में हुए शोध से आंकी जाती है. इसलिए हम शोध को बढ़ावा देने के लिए लगातार प्रयासरत हैं और इसी क्रम में इस हॉस्टल का निर्माण कराया जा रहा है. इस हॉस्टल में हम तरह की सुविधा देंगे जिस शोध के छात्रों को किसी तरह की दिक्कत न हो. अब ऐसे में निश्चित तौर पर हॉस्टल में पति-पत्नी के साथ रहने की व्यवस्था के बाद संस्थान भी ऐसे जोड़ों से उम्मीद करेगा कि उनके संस्थान में शोध कर रहे पति-पत्नी कुछ बेहतर शोध कार्य करें जिससे कि उनका और संस्थान दोनों का नाम हो.

    जेएनयू समेत इन संस्थानों में पहले से है व्यवस्था
    विवाहित जोड़ों के लिए देश की राजधानी दिल्ली में स्थित प्रतिष्ठित संस्थान जवाहर लालू नेहरू यूनिवर्सिटी में यह व्यवस्था पहले से ही लागू है. यहां लड़के, लड़कियों के अलावा विवाहित छात्र-छात्रों के लिए अलग-अलग हॉस्टल हैं. इसके अलावा आईआईटी बॉम्बे समेत देश के अन्य टॉप संस्थानों में भी विवाहित जोड़ों के लिए अलग से हॉस्टल की व्यवस्था की गयी है.

    Tags: Jamshedpur news, Jnu, Ranchi news

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर