लाइव टीवी

COVID-19: कोरोना को लेकर इस राज्य से आई ये अच्छी खबर, निगरानी में हैं ट्रैवल हिस्ट्री वाले 801 यात्री
Ranchi News in Hindi

Upendra Kumar | News18 Jharkhand
Updated: March 27, 2020, 5:21 PM IST
COVID-19: कोरोना को लेकर इस राज्य से आई ये अच्छी खबर, निगरानी में हैं ट्रैवल हिस्ट्री वाले 801 यात्री
कोरोना को लेकर मुस्तैद है झारखंड प्रशासन

देश में कोरोना के स्टेज 3 में जाने के बाद भी झारखंड में एक भी पॉजिटिव केस नहीं मिल पाया है. जिस मरीज का सैंपल होल्ट पर था, वो भी निगेटिव निकला, हालांकि ट्रेव हिस्ट्री वाले 801 यात्री निगरानी में रखे गए हैं.

  • Share this:
रांची. कोरोना (Corona) के बढ़ते खतरे और बीमारी के स्टेज 3 में जाने के खतरे के बीच झारखंड (Jharkhand) देश के उन चंद राज्यों में शामिल है, जहां कोरोना का एक भी पॉजिटिव केस नहीं मिला है. कल जिस संदिग्ध मरीज के सैम्पल को रिपीट जांच के लिए होल्ड पर रखा गया था उसकी जांच रिपोर्ट भी निगेटिव आई है. कोरोना संदिग्धों की जांच के लिए फिलहाल राँची के रिम्स (Rajendra Institute of Medical Sciences) और जमशेदपुर के MGM (Mahatma Gandhi Memorial Medical College) में सुविधा मौजूद है, जहां माइक्रो बायोलॉजी लैब में RT PCR मशीन से जांच हो रही है. सरकार ने जांच फैसिलिटी को अन्य स्थानों पर शुरू करने की योजना बनाई है और कुछ दिनों में यह सुविधा कई जिलों में भी उपलब्ध हो जाने की उम्मीद है.

RIMS के सभी 15 सैंपल निगेटिव
रिम्स के माइक्रोबायोलॉजी लैब में गुरूवार को 15 संदिग्ध मरीजों के सैम्पल की जांच की गई थी, जो निगेटिव पाए गये हैं. एक सैम्पल को संदेह के आधार पर दोबारा जांच के लिए रखा गया था, उसकी रिपोर्ट भी निगेटिव आई है. रिम्स के माइक्रोबायोलॉजी विभाग के HOD डॉ मनोज कुमार ने अब तक झारखंड में कोरोना के एक भी मरीज नहीं मिलने पर संतोष जताते हुए कहा कि अगर 21 दिन का लॉक डाउन का 100 फीसदी अमल राज्य के लोग कर लेते हैं तथा सरकार और तंत्र बाहरी लोगों के राज्य में प्रवेश रोक देती है तो बहुत संभव है कि हम कोरोना मुक्त झारखण्ड के संकल्प को पूरा कर लेंगे.

137 संदिग्धों की जांच, एक भी पॉजिटिव केस नहीं



सरकारी आंकड़ों के अनुसार राज्य में 26 मार्च तक अलग-अलग जिलों से लिये 137 सैम्पलों की जांच की गई है, जिसमे से समाचार लिखे जाने तक 130 मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव मिली है, जबकि 7 सैंपलों की जांच रिपोर्ट का इंतजार है. शुक्रवार को भी रिम्स में 7 नए सैम्पलों की जांच हो रही हैं.



किसी भी आपात परिस्थिति के लिए तैयार स्वास्थ्य महकमा
जैसा कि साफ है कि कोरोना ने देश में मेडिकल इमरजेंसी जैसी स्थिति ला दी है, ऐसे में झारखंड सरकार और स्वास्थ्य महकमा कोई कोर कसर नहीं छोड़ना चाहता. एक ओर जहां रिम्स के अत्याधुनिक सुविधा वाले ट्रामा सेंटर को स्टेट कोरोना आइसोलेशन सेंटर में तब्दील किया जा रहा है, वहीं हर जिला अस्पताल में आइसोलेशन वार्ड बनाये जा रहे हैं. अब तो सभी CHC यानी कम्युनिटी हेल्थ सेंटर को भी हर तरह से तैयार रहने के निर्देश दिए जा चुके हैं.

आइसोलेशन वार्ड के लिए 567 बेड तैयार
अभी तक मेडिकल कॉलेजों में 96 बेड, जिला अस्पतालों में 200 बेड और अन्य अस्पतालों में 261 यानी कुल मिलाकर 567 बेड आइसोलेशन वार्ड के लिए बनाए जा चुके हैं, वहीं 1469 बेड को क्वारंटाइन सेंटर के लिए चिन्हित किया गया है.

ट्रैवल हिस्ट्री वाले 801 यात्री निगरानी में
राज्य में ट्रैवल हिस्ट्री वाले 801 यात्रियों को सरकार ने निगरानी में रखा है और 141 वैसे यात्री है जिनकी ट्रैवेल हिस्ट्री थी और उन्होंने निगरानी में 28 दिन का ऑब्जरवेशन पीरियड पूरा कर लिया है. वहीं दूसरे प्रदेशों से आने वाले 45197 लोगों को स्क्रीनिंग के बाद होम क्वारंटाइन में रखा गया है जिस पर स्वास्थ्य विभाग की पैनी नजर है.

ये भी पढ़ें -
कोरोना लॉकडाउन के बीच दुमका में मॉब लिंचिंग, ग्रामीणों ने चोर को पीट-पीटकर मार डाला
कोरोना के कोप में सरहुल की भव्यता सिमटी, सीएम की सुरक्षित पर्व मनाने की अपील

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रांची से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 27, 2020, 5:20 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading