झारखंड में लोगों के आंसू निकाल रहा प्याज, 40 रुपए हुई कीमत

प्याज की भी रसोई में खपत कम हो गई
प्याज की भी रसोई में खपत कम हो गई

सावन के समापन पर नानवेज खाने के शौकीन रांची के लोगों के लिए प्याज की बढ़ती कीमत ने कीचन का जायका खराब कर दिया है. वहीं शाकाहारी लोग बाजार जा रहे हैं, लेकिन सब्जी का भाव सुन थैले में बहुत कम सब्जी लेकर लौट रहे हैं.

  • Share this:
सावन के समापन पर नानवेज खाने के शौकीन रांची के लोगों के लिए प्याज की बढ़ती कीमत ने कीचन का जायका खराब कर दिया है. वहीं शाकाहारी लोग बाजार जा रहे हैं, लेकिन सब्जी का भाव सुन थैले में बहुत कम सब्जी लेकर लौट रहे हैं.

टमाटर के साथ अब प्याज की भी रसोई में खपत कम हो गई है. आने वाले समय में प्याज की कीमत में भारी बढ़ोतरी के संकेत मिल रहे हैं. सावन के समाप्त होने से प्याज की खपत बढ़ गई है, जिससे बाजार और परवान चढ़ गया है. जुलाई में प्याज की कीमत 20 रूपए किलो थी, लेकिन अभी अगस्त में 35 से 40 रूपए किलो बिक रही है. ऐसे ही जुलाई में 40 से 60 रूपए किलो बिकने वाला टमाटर अब 60 रूपए किलो ही बिक रहा है.

मांस मछली चिकन के शौकिन लोग सावन के समापन का इंतजार कर रहे थे. लेकिन प्याज के बिना इसका जायका ही नहीं. खुदरा बाजार में प्याज दस रूपये पाव बिक रहा है. थोक व्यापारियों के मुताबिक बारिश ने पूरी खेती को बर्बाद कर दिया. इसके बावजूद प्याज विदेशों में सप्लाई किया जा रहा है. इस कारण भी प्याज की आवक कम हो गई है.



जानकारी के अनुसार आने वाले एक महीने में प्याज की कीमत और बढ़ेगी. बारिश के साथ-साथ झारखंड में बिचौलिए भी सब्जी की कीमतों में बेतहासा मूल्य वृद्धि के लिए जिम्मेवार हैं. लेकिन सरकार की ओर से इनके खिलाफ अबतक कोई भी ठोस कदम नहीं उठाए गए हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज