अब पीपीई किट पहनकर अपराधियों को गिरफ्तार करेगी झारखंड पुलिस, कोरोना को देखते हुये लिया फैसला

कोरोना के खतरे को देखते हुये झारखंड सरकार पीपीई किट पहनकर काम करेगी.

कोरोना के खतरे को देखते हुये झारखंड सरकार पीपीई किट पहनकर काम करेगी.

कोरोना संक्रमण(Corona Infection) के चलते पुलिसकर्मियों (Police) की लगातार हो रही मौत को देखते हुए अब पुलिसकर्मी पीपीई किट(PPE Kit) पहनकर अपराधियों को गिरफ्तार करेंगें.

  • News18.com
  • Last Updated: May 3, 2021, 11:33 PM IST
  • Share this:
रांची. कोरोना संक्रमण (Corona Infection) से देश भर में हजारों में पुलिसकर्मियों (Police Man) की मौत के बाद झारखंड के पुलिसकर्मी अब आरोपियों को पकड़ने पीपीई किट (PPE Kit) पहनकर जाएंगे. फ्रंट लाइन वर्कर्स में शामिल पुलिसकर्मियों के लिए समस्या और भी बड़ी है. एक तरफ संक्रमण को देखते हुए अस्पतालों (Hospitals) की सुरक्षा हो या फिर आम लोगों की मदद या फिर लॉ एंड आर्डर को संभालने की जिम्मेदारी सभी मोर्चों पर पुलिसकर्मी एक साथ जूझते नजर आ रहे हैं. ऐसे में उनके संक्रमित होने का खतरा भी ज्यादा होता है.

वर्तमान मुश्किल भरे हालात में अपने फर्ज का निर्वहन कर रहे पुलिसकर्मी कभी भी संक्रमित हो सकते हैं, जिसे देखते हुए रांची पुलिस ने विशेष दिशा-निर्देश जारी किया है. इस दिशा-निर्देश में पुलिसकर्मियों को ये विशेष तौर से कहा गया है कि छोटे मोटे मामलों का निबटारा ऑन द स्पॉट करें और बेवजह किसी को पुलिस वैन में बैठाकर थाने में न लाया जाए.

झारखंड: बहाना बनाकर घरों में छुपे डॉक्टरों का होगा कोरोना टेस्ट, निगेटिव मिले तो कड़ी कार्रवाई

Youtube Video

इसके साथ ही अगर किसी को अरेस्ट करना है और अगर वो संदिग्ध है तो पुलिसकर्मी पीपीई किट पहनकर ही आरोपी को अरेस्ट करे ताकि कोरोना संक्रमण के शिकार होने से बचा जा सके. कोरोना के दूसरी लहर के प्रभाव को देखते हुए लोगों से भी एक अपील रांची पुलिस ने की है. रांची सिटी एसपी ने इस बाबत ये जानकारी दी है कि लोग छोटी मोटी शिकायतों को लेकर थाने की चौखट पर न पहुंचे बल्कि ट्विटर और ऑनलाइन एफआईआर का सहारा लें ताकि संक्रमण से खुद भी बचे और दूसरो को भी बचाएं.

वहीं संक्रमण को देखते हुए मौजूदा हालात में ड्यूटी पर तैनात पुलिसकर्मियों को हैंड ग्लब्स, मास्क, सेनेटाइजर दिया गया है. वहीं इसके इस्तेमाल को कहा गया है ताकि कम से कम पुलिसकर्मी संक्रमीत हों. इसके साथ ही अगर कोई पुलिसकर्मी संक्रमित होता है तो और उसमें किसी तरह का सिम्टम्स नहीं है तो वैसे पुलिसकर्मियों के लिए विस्थापित कॉलोनी में कोविड आइसोलेशन सेंटर बनाया गया है जहां वे स्वास्थ्यलाभ ले सकते हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज