झारखंड: अनुबंधित नर्सों और पारा चिकित्साकर्मियों की 3 दिन से जारी हड़ताल खत्म, सरकार ने लीं राहत की सांसें
Ranchi News in Hindi

झारखंड: अनुबंधित नर्सों और पारा चिकित्साकर्मियों की 3 दिन से जारी हड़ताल खत्म, सरकार ने लीं राहत की सांसें
स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता के साथ वार्ता के बाद नर्सों ने हड़ताल खत्म करने का ऐलान किया

अनुबंधित नर्सिंग एसोसिएशन के प्रदेश सचिव जूही मिंज ने कहा कि सरकार (Hemant Government) ने कई महत्वपूर्ण मांगों को पूरा करने तथा कोरोना काल के बाद सेवा स्थायीकरण की मांग पर विचार करने का वादा किया है.

  • Share this:
रांची. झारखण्ड में एनआरएचएम (NRHM) के 10 हजार से ज्यादा अनुबंधित एएनएम- जीएनएम नर्सों के साथ-साथ पारा चिकित्साकर्मियों ने समान काम के बदले समान वेतन और सेवा स्थायीकरण की मांग को लेकर गत 4 अगस्त से हड़ताल (Strike) कर रखी थी. हड़ताल के चलते राज्य में कोरोना संकट (Corona Crisis) में चिकित्सा सेवा को सुचारू बनाये रखने में परेशानी हो रही थी. लेकिन शुक्रवार को पहले स्वास्थ्य विभाग के प्रधान सचिव नितिन मदन कुलकर्णी और बाद में स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता (Banna Gupta) के साथ वार्ता के बाद झारखण्ड राज्य अनुबंधित एएनएम - जीएनएम कर्मचारी संघ और अनुबंधित पारा चिकित्साकर्मी संघ ने हड़ताल को स्थगित कर काम पर लौटने की घोषणा कर दी.

पहले दो गुटों में बंट गयी थीं अनुबंधित नर्से
स्वास्थ्य सेवा के लचर होते ही प्रशासनिक तंत्र नर्सो के आंदोलन को खत्म कराने में लग गया था. जिसका असर यह हुआ कि आंदोलित नर्सो के एक गुट की नेता मीरा कुमारी ने दोपहर में ही काम पर लौटने की घोषणा कर दी थी. जबकि जूही मिंज गुट और पारा चिकित्साककर्मी के गुट ने स्वास्थ्य मंत्री के साथ वार्ता में मिले आश्वासन के बाद आंदोलन को स्थगित कर दिया.

क्या थी मुख्य मांगें
हड़ताल पर गए अनुबंधित नर्सो और चिकित्साकर्मियों ने सेवा स्थायी करने, समान काम के बदले समान वेतन, स्थायी समायोजन नहीं होने तक 60 वर्ष तक की निश्चित सेवा, कोविड महामारी में सेवा दे रहे अनुबंधित कर्मियों को प्रोत्साहन राशि, कोरोना सेवा में लगे अनुबंधित नर्सो-चिकित्साकर्मियों की मौत पर 25 लाख की बीमा राशि देने, अनुबंधकर्मियों को EPF, ESI और आयुष्मान भारत का लाभ देने तथा हड़ताल अवधि को सेवा में टूट नहीं मानने की मांग की थी.



कई मांग को मान लेने तथा सेवा स्थायीकरण एवं समान काम के बदले समान वेतन की मांग पर कोरोना काल के बाद सहानुभूतिपूर्वक विचार के आश्वासन पर हड़ताल समाप्त कर कल से काम पर लौटने का फैसला लिया.

अनुबंधित नर्सिंग एसोसिएशन के प्रदेश सचिव जूही मिंज और झारखंड पारा चिकित्साकर्मी संघ अध्यक्ष विनय कुमार सिंह ने कहा कि सरकार ने कई महत्वपूर्ण मांगों को पूरा करने तथा कोरोना काल के बाद सेवा स्थायीकरण की मुख्य मांग पर सहानुभूतिपूर्वक विचार करने का वादा किया है. इसलिए जनहित में हड़ताल को स्थगित किया गया है. ताकि राज्य के बीमार जनता को कोई दिक्कत न हो.

हड़ताल वापसी की घोषणा पर खुशी जताते हुए स्वास्थ्य मंत्री बन्ना गुप्ता ने कहा कि अभी ग्लोबल पेंडेमिक कोरोना के खिलाफ एकजुट होकर लड़ने का वक्त है. राज्य में जनता की भला चाहने वाली सरकार है. इसलिए सरकार अपने अनुबंधित कर्मचारियों के हितों की भी रक्षा करेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading