Home /News /jharkhand /

OMG: यहां नदी के पानी में बहता है सोना! सुबह से शाम तक सोने के कण छानते हैं लोग, जानें कहां

OMG: यहां नदी के पानी में बहता है सोना! सुबह से शाम तक सोने के कण छानते हैं लोग, जानें कहां

झारखंड के स्वर्णरेखा नदी से सोने के कण छाने जाते हैं.

झारखंड के स्वर्णरेखा नदी से सोने के कण छाने जाते हैं.

Gold River In Jharkhand: बीते बुधवार को बिहार से सांसद डॉ. संजय जायसवाल के सवाल के जवाब में जब लोकसभा में केन्द्रीय खान मंत्री प्रह्लाद जोशी ने बताया कि बिहार में 37.6 टन धातु युक्त अयस्क सहित 223 मिलियन टन स्वर्ण धातु उपलब्ध है. यह पूरे देश के स्वर्ण भंडार का 44% है और यह पूरा भंडार जमुई के सोनो क्षेत्र में है. इसके साथ ही देश भर में यह चर्चा छिड़ गई है कि बिहार तो मालामाल हो जाएगा. जमुई के लोग बताते हैं कि उन्हें सोने के कण तो बीते तीस वर्षों से यहां की मिट्टी में मिलते रहे हैं. इस दावे के साथ ही बिहार के पड़ोसी राज्य झारखंड में भी चर्चा है कि यहां की नदी में भी तो सोना बहता है. दरअसल यहां की स्वर्ण रेखा नदी में सोने के कण बीते 100 वर्षों से भी पहले से मिलते रहे हैं.

अधिक पढ़ें ...

    रांची. हमारे देश में नदियों को मइया कहा जाता है. जैसे गंगा मइया, कोसी माई, कमला माइया… यह इसलिए कि हम नदी को भी अपनी ‘मां’ यानी संरक्षक व पालनहार के तौर पर देखते हैं. मां का स्वभाव है कि अपने बच्चों पर वह सर्वस्व न्योछावर कर देती है. ठीक इसी प्रकार का स्वभाव नदियों का भी होता है. यह ऐतिहासिक व पौराणिक तथ्य है कि नदियों के किनारे ही सबसे समृद्ध सभ्यताओं का विकास होता है. हमारी नदियां आम जन जीवन को समृद्ध बनाती है. ऐसे तो हमारे देश में सैकड़ों नदियां बहती हैं और हर नदी की अपनी कहानी व मान्यताएं भी हैं. परन्तु सभी नदियों का स्वभाव है कि अगर हम छेड़छाड़ न करें तो वह हमें बहुत कुछ दे जाती हैं. झारखंड में रांची से सटे ही एक ऐसी नदी है जो हमें सोना जैसा अनमोल धातु प्रदान करती है.

    रांची से महज 16 किलोमीटर दूर स्वर्णरेखा नदी (Swarnarekha River) नदी ऐसी ही है. इस नदी में सदियों से पानी के साथ सोना (Mysterious Gold River) बहता है. हैरान करने वाली बात यह है कि सैकड़ों वर्षों के बाद भी वैज्ञानिकों को यह पता नहीं चल पाया है कि इस नदी में सोना (Gold river of india) क्यों बहता है? यानी इस नदी का सोना (Gold in River) वैज्ञानिकों के लिए अभी भी रहस्य है.

    झारखंड की इस स्वर्णरेखा नदी (Swarna Rekha River in jharkhand) में पानी के साथ सोना बहने के कारण ही इसे स्वर्णरेखा नदी के नाम से जाना जाता है. इसको आम लोग यहां सोने की नदी भी कहते हैं. कहा जाता है कि यहां के स्थानीय आदिवासी इस नदी में सुबह जाते हैं और दिन भर रेत छानकर सोने के कण इकट्ठा करते हैं. इस काम में उनकी कई पीढ़ियां लगी हुई हैं. तमाड़ और सारंडा जैसे इलाके ऐए हैं जहां पुरुष, महिलाएं और बच्चे सुबह उठकर नदी से सोना इकट्ठा करने जाते हैं.

    यहां यह बता दें कि नदी से सोना निकालना बेहद मुश्किल काम है. नदी की रेत से सोना इकट्ठा करने के लिए लोगों को दिनभर मेहनत करनी पड़ती है. आदिवासी परिवार के लोग दिनभर पानी में सोने के कण ढूंढने हैं. दिनभर काम करने के बाद आमतौर पर एक व्यक्ति एक या दो सोने के कण ही निकाल पाता है. कई बार तो दिनभर मेहनत करने के बाद एक भी कण नहीं मिलता है.

    यहां के लोग बताते हैं कि एक आदमी महीनेभर में 60 से 80 सोने के कण ही निकाल पाता है. कई बार तो महीने में 30 सोने के कण निकालना भी मुश्किल हो जाता है. ये कण चावल के दाने के बराबर या उससे छोटे भी होते हैं. वह एक कण को बेचकर 80 से 100 रुपए कमाते हैं. इस तरह सोने के कण बेचकर एक शख्स औसतन महीने में 5 से 8 हजार रुपये ही कमाता है. हालांकि बाजार में एक कण की कीमत कई बार 300 रुपये या उससे ज्यादा होती है.

    बार-बार लोगों के जेहन में यह सवाल आता है कि आखिर इस नदी में सोना कहां से आता है? इस बात को लेकर भू-वैज्ञानिकों का मानना है कि नदी तमाम चट्टानों से होकर गुजरती है. इन चट्टानों में मिलने वाले सोने के टुकड़े घर्षण के कारण टूटकर इसमें मिल जाते हैं. इसके बाद यह नदी के सहारे बहते हुए आगे चले आते हैं. बता दें कि स्वर्णरेखा नदी झारखंड से निकलकर पश्चिम बंगाल तथा ओडिशा के कुछ इलाकों में भी बहती है.

    स्वर्णरेखा के अलावा कुछ जगहों में नदी ‘सुबर्ण रेखा’ के नाम से भी जानी जाती है. स्वर्णरेखा नदी का उद्गम रांची से करीब 16 किमी दूर है. इसकी कुल लंबाई 474 किमी है. स्वर्ण रेखा की एक सहायक नदी ‘करकरी’ की रेत में भी सोने के कण मिलते हैं. जबकि कुछ लोगों का यह भी कहना है कि स्वर्ण रेखा नदी में जो सोने के कण पाए जाते हैं, वह करकरी नदी से बहकर ही आते हैं.

    Tags: Jamui news, Ranchi news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर